लंदन। भारत के रोहन बोपन्ना और उनकी जो़डीदार कनाडा की गैबरिएला डाबरोवस्की को विंबलडन टेनिस चैंपियनशिप के मिश्रित युगल क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना प़डा जिसके साथ ही भारत की वर्ष के तीसरे ग्रैंड स्लैम में चुनौती समाप्त हो गई। १०वीं सीड बोपन्ना-डाबरोवस्की ने फिनलैंड के हैनरी कोंटिनेन और ब्रिटेन की हीथर वाटसन के खिलाफ क़डा संघर्ष किया लेकिन सेंटर कोर्ट पर हुए इस मुकाबले में गत चैंपियन जो़डी ने फिर ६-७, ६-४, ७-५ से करीब दो घंटे में जीत दर्ज कर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। फ्रेंच ओपन के मिश्रित युगल का खिताब जीतकर यहां पहुंचे बोपन्ना-डाबरोवस्की की जो़डी ने हालांकि मैच में काफी संघर्ष किया और १०४ अंक जीते जबकि विजयी कोंटिनिन-वाटसन की जो़डी को १०९ अंक मिले। इस मैच से ठीक पहले कोंटिनेन पांच सेटों तक चले अपने पुरुष युगल मैच को हार गए थे लेकिन उन्होंने मिश्रित युगल में उम्मीद बनाए रखते हुए पहला सेट टाईब्रेक में गंवाने के बाद बाकी दोनों सेटों को जीता।भारतीय-कनाडाई जो़डी ने इससे पहले एक भी सेट नहीं गंवाया था लेकिन अंतिम आठ के मुकाबले में वह ११ में से आठ ब्रेक अंक बचाने के बाद भी मैच हार गए। उन्होंने मैच में सात एस लगाए लेकिन पांच डबल फॉल्ट और छह बेजा भूलें कीं। बोपन्ना विंबलडन में अकेले ही भारतीय चुनौती संभाले हुए थे और उनकी हार के साथ अब यह समाप्त हो गई। इससे पहले सानिया मिर्जा भी अपने मिश्रित और युगल मैचों में बाहर हो चुकी हैं। कोंटिनेन और वाटसन के सामने अब अंतिम चार में ब्रुनो सोरेस और एलीना वेसक्ीना की दूसरी सीड जो़डी होगी। एक अन्य सेमीफाइनल में ब्रिटेन के जेमी मरे और मार्टिना हिंगिस की शीर्ष वरीय जो़डी रहेगी। वहीं जूनियर विंबलडन में भी भारत की चुनौती समाप्ता हो गई है जहां महक जैन, जील देसाई, मिखा यादव और सिद्धांत बंथिया ल़डकियां और ल़डकों की स्पर्धाओं में अपने अपने मैच हार कर बाहर हो गए हैं।