टिबिलिसि (जार्जिया)। दो बार के चैम्पियन भारतीय धुरंधर विश्वनाथन आनंद विश्व कप शतरंज के पहले दौर में मलेशिया के नंबर एक खिला़डी यिहो लि तियान से खेलेंगे। इस टूर्नामेंट से शीर्ष दो खिलाि़डयों को कैंडिडेट्स टूर्नामेंट २०१८ में सीधे प्रवेश मिलेगा। पहली बार भारत के दो शीर्ष खिला़डी आनंद और पी हरिकृष्णा इसमें खेल रहे हैं।आनंद ने वर्ष २००७ से विश्व चैम्पियनशिप जीतना शुरू कर दिया तो उन्हें विश्व कप खेलने की जरूरत नहीं प़डी लेकिन करीब १५ साल बाद उन्हें कैंडिडेट्स टूर्नामेंट में सीधे प्रवेश नहीं मिला है। पांच बार के विश्व चैम्पियन आनंद के लिए यह टूर्नामेंट काफी मायने रखता है। आनंद ने दो विश्व कप खेले और चीन में वर्ष २००० तथा हैदराबाद में वर्ष २००२ में खिताबी जीत दर्ज की।पहले दौर में आनंद को आसान चुनौती मिली है लेकिन दूसरे दौर में उनका सामना ग्रैंडमास्टर वारूजान अकोबियन से हो सकता है। प्री क्वार्टर फाइनल में वह इंग्लैंड के ग्रैंडमास्टर माइकल एडम्स से खेल सकते हैं और इसमें जीतने पर उनकी टक्कर हिकारू नकामूरा से हो सकती है।भारतीय ग्रैंडमास्टर पेंटाला हरिकृष्णा फिडे विश्व कप के पहले दौर में क्यूबा के यूरी गोंजालेस विडाल से खेलेंगे ताकि वर्ष २०१८ कैंडिडेट्स टूर्नामेंट में अपनी जगह पक्की कर सके। दुनिया के २०वें नंबर के खिला़डी का मानना है कि इस साल विश्व कप काफी कठिन होगा क्योंकि इसमें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिला़डी भाग ले रहे हैं। उन्होंने कहा, दुनिया भर के शीर्ष रैंकिंग वाले खिला़डी इसमें भाग लेंगे और मुझे पता है कि यह काफी कठिन होगा। चूंकि यह नाकआउट टूर्नामेंट है तो मैं मैच दर मैच रणनीति बनाउंगा।