नई दिल्ली। विश्व चैंपियनशिप में सीधा प्रवेश पाने वाले भारतीय बैडमिंटन खिला़डी समीर वर्मा ने कहा कि उन्हें इस टूर्नामेंट के लिए क्वालीफाई करने की उम्मीद नहीं थी लेकिन अब वह पदक जीतकर इसे अपने लिए खास बनाना चाहते हैं। समीर ने पीटीआई से कहा, मेरे पास मई में क्वालीफाई करने का मौका था लेकिन मैं सिंगापुर में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया। साई प्रणीत की जीत और श्रीकांत के फाइनल में पहुंचने के कारण रैंकिंग में उतार च़ढाव आता रहा। मैं जानता था कि अगर कोई हटता है कि तो मेरे पास मौका होगा लेकिन मुझे इसकी उम्मीद नहीं थी। समीर ने जनवरी में सैयद मोदी अंतररष्ट्रीय का खिताब जीता था। वह इंडिया सुपर सीरीज के फाइनल में भी पहुंचे थे। वह सिंगापुर ओपन में भी खेले जिसके बाद कंधे की चोट के कारण वह इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलियाई ओपन में नहीं खेल पाए। समीर ने कहा, चोट से मेरी प्रगति प्रभावित हुई क्योंकि फिटनेस हासिल करने में मुझे दो से तीन सप्ताह लग गए। वीजा मसले के कारण कनाडा ओपन में नहीं खेल पाना निराशाजनक रहा लेकिन यूएस ओपन अच्छा टूर्नामेंट था भले ही मैं वहां क्वार्टर फाइनल में हार गया था। उन्होंने कहा, यह चोट के बाद मेरा पहला टूर्नामेंट था और मेरा खेल अच्छा रहा लेकिन सर्वश्रेष्ठ नहीं था। अपनी सर्वश्रेष्ठ फार्म में लौटने में थो़डा समय लगता है लेकिन एक महीने के विश्राम से मुझे फिर से अपना सर्वश्रेष्ठ हासिल करने में मदद मिलेगी। विश्व चैंपियनशिप में मुझे चोटी के खिलाि़डयों के साथ खेलना है और उम्मीद है कि मैं पदक जीतने में सफल रहूंगा। समीर के अलावा के श्रीकांत, बी साई प्रणीत और अजय जयराम पुरुष वर्ग से विश्व चैंपियनशिप में भाग लेंगे। महिला वर्ग साइना नेहवाल और पीवी सिंधू के अलावा रितुपर्णा दास और तन्वी लाड ने भी क्वालीफाई किया है। विश्व चैंपियनशिप के बारे में समीर ने कहा, यह ब़डा टूर्नामेंट है लेकिन उन्हें खिलाि़डयों के खिलाफ खेलूंगा जिनसे सुपर सीरीज में खेलता रहा है इसलिए मुझे उसके बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है। मेरा ध्यान क़डे अभ्यास और अच्छा खेलने पर है।