नई दिल्ली। साइना नेहवाल कुछ समय से सुर्खियों से दूर हैं और कोच विमल कुमार का मानना है कि यह चीज चोटों से वापसी करने वाली खिला़डी के लिए फायदेमंद साबित हो सकती हैं जो अगले हफ्ते ग्लास्गो में विश्व चैम्पियनशिप में भाग लेंगी। वर्ष २०१५ में जकार्ता में विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला साइना पिछले साल घुटने में चोट लगने से पिछले साल ओलंपिक से बाहर होने के बाद से जूझ रही है।हालांकि यह भारतीय मलेशिया मास्टर्स में जीतने के बाद कैरियर के लिए खतरनाक चोट से उबरने में सफल रही लेकिन वह अपनी सर्वश्रेष्ठ फार्म में नहीं पहुंच पाईं। उन्हें ऐसी प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ कुछ करीबी मैचों में हार का मुंह देखना प़डा जिन पर वह पिछले दशक में दबदबा बनाए रही थीं। विमल ने कहा, घुटने की चोट के बाद, वह जूझ रही थी, वह कुछ करीबी मैच गंवा बैठीं। उसने कुछ अच्छे प्रयास किए और अगर वह अपनी प्रतिभा के अनुसार खेल सकती हैं तो वह शीर्ष खिलाि़डयों को हरा सकती है। उन्होंने कहा, साथ ही इस बार ध्यान उस पर नहीं लगा हुआ है। नजरें सिर्फ पीवी सिंधू और के श्रीकांत पर लगी हैं और यह उसके लिए अच्छी चीज है। इस साल दो सुपर सीरीज खिताब और एक फाइनल में पहुंचने के बाद किदाम्बी श्रीकांत सभी के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं क्योंकि उनसे २१ अगस्त से शुरू होने वाली विश्व चैम्पियनशिप में भारत ने उम्मीदें लगाई हुई हैं।बी साई प्रणीत और ओलंपिक रजत पदक विजेता पीवी सिंधू ने भी क्रमश: सिंगापुर ओपन और इंडिया ओपन में सुपर सीरीज खिताब अपने नाम किए लेकिन साइना इस साल अभी तक भी खिताब नहीं जीत सकीं। पूर्व मुख्य राष्ट्रीय कोच ने कहा, व्यक्तिगत खेलों में ऐसा होता है और सारी ल़डकियां सुधार कर रही हैं, ये सभी युवा खिला़डी हैं और उनके खिलाफ वह खेल रही है। साइना को शुरूआती दौर में बाई मिली है और वह स्विट्जरलैंड की सबरीना जाकेट और यूक्रेन की नटाल्या वोयतसेख के बीच होने वाले मुकाबले की विजेता से भि़डेंगी तथा प्री क्वार्टरफाइनल में जगह बनाने के लिए उनका सामना कोरिया की दूसरी वरीय सुंग जि हुन से हो सकता है। ड्रा के बारे में बात करते हुए ५४ वर्षीय कोच ने कहा, यह कठिन ड्रा है लेकिन इसमें जीत दर्ज की जा सकती है।