राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत पूरे देश ने मिल्खा सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया

मिल्खा सिंह। फोटो स्रोत: uni news
मिल्खा सिंह। फोटो स्रोत: uni news

नई दिल्ली/भाषा। महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह के निधन के साथ एक युग के अंत पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत पूरे देश ने शोक जताया है और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि उनके संघर्ष और जुझारूपन की कहानी भारतीयों की आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी।

कोरोना संक्रमण से एक महीने तक जूझने के बाद मिल्खा सिंह का चंडीगढ़ के पीजीआईएमईआर में कल रात निधन हो गया। इससे एक सप्ताह पहले उनकी पत्नी और भारतीय वॉलीबॉल टीम की पूर्व कप्तान निर्मल कौर का भी निधन हो गया था।

राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, ‘खेलों के महानायक मिल्खा सिंह के निधन से दुखी हूं। उनके संघर्ष और जुझारूपन की कहानी भारतीयों की आने वाले पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी। उनके परिवार और असंख्य प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘मिल्खा सिंहजी के निधन से हमने एक बहुत बड़ा खिलाड़ी खो दिया जिनका असंख्य भारतीयों के ह्रदय में विशेष स्थान था। अपने प्रेरक व्यक्तित्व से वे लाखों के चहेते थे। मैं उनके निधन से आहत हूं।’

उन्होंने आगे लिखा, ‘मैने कुछ दिन पहले ही श्री मिल्खा सिंहजी से बात की थी। मुझे नहीं पता था कि यह हमारी आखिरी बात होगी। उनके जीवन से कई उदीयमान खिलाड़ियों को प्रेरणा मिलेगी। उनके परिवार और दुनिया भर में उनके प्रशंसकों को मेरी संवेदनाएं।’

भारतीय खेल जगत ने भी इस प्रेरणादायी खिलाड़ी को श्रद्धांजलि दी। ट्रैक को अलविदा कहने के बाद भी भारतीय खेलों पर उनकी नजर हमेशा बनी रही।

तोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके भालाफेंक खिलाडी नीरज चोपड़ा ने ट्वीट किया, ‘हमने एक नगीना खो दिया। वह हर भारतीय के लिए प्रेरणा बने रहेंगे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।’

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि भारतीय खेलों के सबसे चमकते सितारों में से एक चला गया। उन्होंने कहा, ‘महान फर्राटा धावक फ्लाइंग सिख श्री मिल्खा सिंहजी के निधन से भारत में शोक है। उन्होंने विश्व एथलेटिक्स पर अमिट छाप छोड़ी। भारत उन्हें खेलों के सबसे चमकते सितार में से एक के रूप में सदैव याद रखेगा। उनके परिवार को प्रशंसको को मेरी संवेदनाएं।’

भारतीय खेल प्राधिकरण ने ट्वीट किया, ‘राष्ट्रमंडल खेल और एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता मिल्खा सिंह के नाम 400 मीटर का राष्ट्रीय रिकॉर्ड 38 साल तक रहा। उनके परिवार और उन लाखों लोगों के प्रति संवेदना जिन्हें उन्होंने प्रेरित किया।’

भारतीय एथलेटिक्स महासंघ ने ट्वीट किया, ‘सभी भारतीयों के लिये बहुत दुखद समाचार।’ एएफआई अध्यक्ष आदिले सुमरिवाला ने मिल्खा को ऐसा धुरंधर बताया जिन्होंने युवा देश में एथलेटिक्स को नई बुलंदियों तक पहुंचाया।

ओलंपियन अंजु बॉबी जॉर्ज ने लिखा, ‘वह युवा भारतीयों को कई पीढ़ियों तक प्रेरित करते रहेंगे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे। भारतीय एथलेटिक्स को बड़ा नुकसान।’

भारतीय फर्राटा धावक मोहम्मद अनस याहिया ने लिखा, ‘मिल्खा सर के निधन से स्तब्ध हूं। मेरे दिल में हमेशा आपकी खास जगह रहेगी। फ्लाइंग सिख हमेशा जीवित रहेंगे।’

भारत के पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह ने लिखा,‘बहुत ही दुखद समाचार कि फ्लाइंग सिख सरदार मिल्खा सिंह जी नहीं रहे। वाहेगुरु। आरआईपी मिल्खा सिंह जी।’

भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने ट्वीट किया, ‘सरदार मिल्खा सिंहजी के निधन की खबर सुनकर बहुत दुखी हूं। आपसे कई बार मिलने का सौभाग्य मिला और आपने हमेशा आशीर्वाद दिया। बेहद विनम्र और गर्मजोशी से मिलने वाले इंसान। आपकी कमी खलेगी।’

भारतीय फुटबॉल टीम के आधिकारिक हैंडिल पर भी उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। इस पर लिखा था, ‘पूरे देश के साथ हम भी महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह के निधन पर गमगीन है। उनकी अतुल्य उपलब्धियां आने वाली पीढ़ियों के लिये प्रेरणास्रोत बनी रहेंगी। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।’

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने लिखा, ‘महान फर्राटा धावक सरदार मिल्खा सिंह के निधन का समाचार सुनकर दुखी हूं। वह सभी के लिए सदैव प्रेरणास्रोत रहेंगे। ओम शांति।’

चैम्पियन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने लिखा, ‘आरआईपी मिल्खा सिंह। आपके निधन से हर भारतीय के दिल में खालीपन पैदा हो गया है लेकिन आप आने वाली कई पीढ़ियों के प्रेरणासोत रहेंगे।’