अजिंक्य रहाणे
अजिंक्य रहाणे

मेलबर्न/भाषा। कप्तान अजिंक्य रहाणे की अर्धशतकीय पारी से भारत आस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच के दूसरे दिन रविवार को यहां पहली पारी में बढ़त लेने के करीब पहुंच गया।

भारत ने दूसरे दिन चाय के विश्राम तक पांच विकेट पर 189 रन बनाए थे तथा वह आस्ट्रेलिया के पहली पारी के 195 रन के स्कोर से केवल छह रन पीछे है। चाय के विश्राम के समय रहाणे 53 और रविंद्र जडेजा चार रन पर खेल रहे थे।

भारत ने दूसरे सत्र में हनुमा विहारी (21) और ऋषभ पंत (29) के विकेट गंवाए जो अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठा पाए।

विहारी ने आफ स्पिनर नाथन लियोन की आफ स्टंप से बाहर जाती गेंद पर स्वीप करने के प्रयास में अपना विकेट गंवाया। उन्होंने रहाणे के साथ चौथे विकेट के लिए 52 रन जोड़े।

इसके बाद पंत ने क्रीज पर कदम रखा जिन पर सभी की निगाहें टिकी थी। यह विकेटकीपर बल्लेबाज हालांकि किसी तरह की दबाव में नहीं दिखा और उन्होंने पूरे आत्मविश्वास से अपने स्ट्रोक खेले।

रहाणे ने पहले रक्षात्मक रवैया अपनाया लेकिन पंत आक्रामक होकर खेल रहे थे जिससे आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को अपनी रणनीति बदलनी पड़ी।

रहाणे ने पहला विश्वसनीय शॉट जोश हेजलवुड पर लगाया और ऑफ ड्राइव से गेंद चार रन के लिये भेजी। उनके ड्राइव और लेट कट भी देखने लायक थे। दूसरे छोर पर पंत ने लियोन पर कवर पर चौका लगाया और फिर पैट कमिन्स की गेंद खूबसूरती से पुल करके चार रन के लिए भेजी।

लेकिन जब पंत अच्छी लय में दिख रहे थे तब मिशेल स्टार्क की गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर विकेटकीपर टिम पेन के दस्तानों में चली गई। यह पेन का टेस्ट मैचों में 150वां शिकार और स्टार्क का 250वां विकेट था।

भारत ने सुबह एक विकेट पर 36 रन से आगे खेलना शुरू किया और सतर्क शुरुआत की लेकिन कल के अविजित बल्लेबाजों युवा शुभमन गिल (45) और अनुभवी चेतेश्वर पुजारा (17) के विकेट 11 गेंद के अंदर गंवा दिए। इन दोनों को पैट कमिन्स ने अपने लगातार ओवरों में पवेलियन भेजा।

अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे 21 वर्षीय गिल ने अपनी प्रवाहमय बल्लेबाजी से प्रभावित किया और मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर 65 गेंद की अपनी पारी में कुछ उम्दा शॉट लगाए। पुजारा ने हमेशा की तरह सतर्क बल्लेबाजी की और 70 गेंदों का सामना किया।

गिल सुबह आउट होने वाले पहले बल्लेबाज थे। उन्होंने कमिन्स की गेंद पर पेन को आसान कैच दिया। कमिन्स ने अपने अगले ओवर में पुजारा को पवेलियन भेजकर आस्ट्रेलिया को महत्वपूर्ण सफलता दिलाई। कमिन्स की कोण लेती गेंद पुजारा के बल्ले को चूमकर पेन के दस्तानों में चली गई जिन्होंने डाइव लगाकर खूबसूरत कैच लिया।

सुबह दिन की पहली गेंद पर ही कप्तान पेन को लगा कि वह गिल के बल्ले का किनारा लेकर गई है। उन्होंने निर्णय समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) का सहारा लिया लेकिन उनका अनुमान गलत निकला और आस्ट्रेलिया ने एक ‘रिव्यू’ गंवा दिया। आस्ट्रेलिया चार मैचों की शृंखला में अभी 1-0 से आगे चल रहा है।