लॉकडाउन बढ़ने के साथ हताशा होने लगी थी : दिनेश कार्तिक

95

कोलकाता/भाषा। भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने कहा है कि कोविड-19 के कारण जारी लॉकडाउन के बीच इस अनिश्र्चितता से निपटना काफी हताशा भरा था कि वह अपना अगला मैच कब खेलेंगे।
कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन 25 मार्च को शुरू हुआ था। तब से सभी क्रिकेटर अपने घरों तक ही सीमित हैं। इस बीच हालांकि समय-समय पर पाबंदियों में छूट दी गई। कार्तिक ने स्टार स्पोर्ट्‌स के शो क्रिकेट कनेक्टेड’ पर कहा, लॉकडाउन में शुरुआत में मैं ट्रेनिंग करके खुश था, मैं घर में रहकर खुश लेकिन यह दो हफ्ते, फिर तीन और चार हफ्ते तक बढ़ गया, यह काफी हताशा भरा अहसास था। मुझे नहीं पता कि मैं अपना अगला क्रिकेट मैच कब खेलूंगा, मैं किसलिए ट्रेनिंग कर रहा हूं, कभी कभी यह उबाऊ लगता है। कार्तिक की पत्नी और अंतरराष्ट्रीय स्क्वाश खिलाड़ी दीपिका पल्लीकल भी इसी तरह की स्थिति का सामना कर रही है और यह 35 वर्षीय खिलाड़ी उनसे प्रेरणा ले रहा है। उन्होंने कहा, इसके बाद मैंने उसे देखा जो व्यक्तिगत खेल खेलती है, रोजाना जज्बे के साथ तैयारी करना। समान स्थिति, उसे भी नहीं पता कि अगला टूर्नामेंट कब होगा। मुझे महसूस हो रहा है कि क्रिकेट स्क्वाश से पहले शुरू हो जाएगा लेकिन इसके बावजूद वह ट्रेनिंग कर रही है।
कार्तिक ने कहा कि कोविड-19 के प्रकोप के बाद क्रिकेट के दोबारा शुरू होने पर लार के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लंबे प्रारूप में गेंदबाजों के लिए बड़ी चुनौती होगा। हां, निश्र्चित तौर पर यह बड़ी चुनौती होगा। मुझे लगता है एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय और टी20 में यह अधिक अंतर पैदा नहीं करेगा लेकिन निश्र्चित तौर पर यह टेस्ट में बड़ी चुनौती होगा।