नई दिल्ली/भाषा। जब देश चिकित्साकर्मियों और अन्य कोविड-19 योद्धाओं की सराहना के लिए घंटियां, शंख, तालियां आदि बजा रहा था, एक खनिक के दिमाग में विचार आया कि इस महामारी के दौरान काम में जुटे अपने सह-कर्मियों को भी क्यों न कुछ ऐसा ही समर्पित किया जाए।

सरकारी कोयला खनन कंपनी की इकाई एसईसीएल में काम करने वाले खनिक नितिन गुप्ता के मन में यह विचार उमड़ा। इसके बाद उन्होंने ‘हमसे सारा जग चलता’ गाना तैयार किया और उसे सोशल मीडिया पर डाल दिया।

गुप्ता अपने खाली समय में संगीत तैयार करते हैं और गीत गाते हैं। उन्होंने कहा कि वह अपने जैसे उन कोयला खनिकों की भावना को सामने रखना चाह रहे थे, जो इस मुश्किल घड़ी में भी कोयला उत्पादन करने और देश के बिजली संयंत्रों को चालू रखने के लिए निडरता से काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकों से ताली बजाने और वायरस से सामने से जूझ रहे डॉक्टरों व अन्य कर्मियों की हौसलाअफजाई करने के लिए कहा, तब मेरे मन में यह विचार आया कि कोई भी कोयला योद्धाओं के बारे में बात नहीं कर रहा है जो चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं।’

गुप्ता ने कहा, ‘इसलिए मैंने फैसला किया कि मैं एक गीत लिखूंगा और इसे गाऊंगा ताकि आम लोग भी जान सकें कि कोयला खदान में काम कर रहे लोग अन्य योद्धाओं से कम नहीं है।’

इस गीत में उनकी साढ़े चार साल की बेटी स्वर्णश्री ने भी उनका साथ दिया है। सोशल मीडिया पर वीडियो डालते ही उनके अपने शहर अंबिकापुर में हर ओर उनकी चर्चा होने लग गयी। उन्होंने कहा, ‘यह सोशल मीडिया का युग है। मेरा वीडियो व्हाट्सएप और फेसबुक के माध्यम से कई लोगों तक पहुंचा है। इसे फेसबुक पर लगभग 85,000 लाइक्स मिले हैं।’

खदानों में आठ घंटे की शिफ्ट ने उन्हें अपने जुनून से नहीं रोका और उन्होंने अब तक लगभग 200 गाने लिखे हैं। उनकी संगीत यात्रा यहीं समाप्त नहीं होती है, बल्कि वह लॉकडाउन के बाद एक और गीत सामने लाने वाले हैं।

उन्होंने कहा कि नए गीत के माध्यम से वह लोगों से कोरोनावायरस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए आवश्यक सावधानी बरतने की अपील करेंगे। गुप्ता वीडियो में लोगों से कहते हुए दिखाई देंगे कि कृपया नियमों की धज्जियां न उड़ाएं और पूरी तरह से स्वछंद महसूस न करें क्योंकि अभी देश से वायरस का उन्मूलन नहीं हुआ है।