सांकेतिक चित्र
सांकेतिक चित्र

रोम/एपी। अदा जानुसो ने 103 साल की उम्र में कोरोना वायरस को हरा दिया। वह साहस और विश्वास के साथ कोविड-19 का मुकाबला करने की सलाह देती हैं। यूरोप में इटली और फ्रांस में उम्रदराज लोगों की आबादी सबसे ज्यादा है और कम से कम 100 साल उम्र वाले ऐसे लोगों को यहां ‘सुपर ओल्ड’ की श्रेणी में रखा जाता हे।

इटली में दुनियाभर में कोविड-19 से मौत के सर्वाधिक मामले सामने आये हैं, ऐसे में अधिक उम्र में कोरोना वायरस को मात देने वालों को प्रेरणास्रोत माना जा रहा है। जानुसो भी उनमें से एक हैं। उन्होंने लेसोना शहर में वृद्धजनों के ग्रेजिया रेजीडेंस से वीडियो कॉल में एपी से कहा, ‘मैं ठीक हूं। मैं टीवी देखती हूं, अखबार पढ़ती हूं।’

अपनी बीमारी के बारे में पूछे जाने पर जानुसो ने कहा, ‘मुझे कुछ बुखार था।’ उनके डॉक्टर ने बताया कि वह एक हफ्ते तक बिस्तर पर रहीं। डॉक्टर फर्नो मार्चेसी ने कहा, ‘हमने उन्हें तरल पदार्थ दिए क्योंकि वह खाना नहीं खा रही थीं।’

उन्होंने बताया कि एक दिन उन्होंने आंखें खोलीं और फिर धीरे धीरे उनकी दिनचर्या सामान्य होती गई। वह पहले की तरह काम करने लगीं। जब जानुसो से पूछा गया कि उन्हें इस समस्या से उबरने में कैसे मदद मिली तो उनका जवाब था, ‘साहस और शक्ति से एवं विश्वास से।’