प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

ढाका/दक्षिण भारत। पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश ने बच्चियों और महिलाओं से दुष्कर्म जैसे अपराधों के मामले में सख्ती दिखाते हुए तय किया है कि अब ऐसे अपराधियों को उम्रकैद नहीं, फांसी दी जाएगी। बांग्लादेश के राष्ट्रपति मो. अब्दुल हमीद ने मृत्युदंड के प्रावधान वाले अध्यादेश पर मंगलवार को हस्ताक्षर कर दिए हैं।

बता दें कि हाल में इस देश में दुष्कर्म की कई घटनाओं के बाद लोगों ने काफी विरोध प्रदर्शन किए थे, जिसके मद्देनजर प्रधानमंत्री शेख हसीना की सरकार ने ऐलान किया कि बलात्कारियों को मृत्युदंड दिया जाएगा। अब इसी दिशा में सरकार ने यह कदम उठाया है।

राष्ट्रपति भवन के एक प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रपति ने कैबिनेट के फैसले को स्वीकार किया और महिला एवं बाल अत्याचार निवारण अधिनियम संबंधी अध्यादेश जारी कर दिया। बांग्लादेशी मंत्रिमंडल ने सोमवार को दुष्कर्म जैसे मामलों में अधिकतम सजा उम्रकैद को बढ़ाकर मृत्युदंड करने को मंजूरी दी थी।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा कि आजीवन कारावास के अलावा, दुष्कर्म के लिए अधिकतम मौत की सजा को कैबिनेट में मंजूरी दी गई है। चूंकि अभी संसद सत्र नहीं है, इसलिए हम एक अध्यादेश जारी कर रहे हैं।

इस पड़ोसी मुल्क में हाल में दुष्कर्म की कई घटनाओं के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा था। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने के बाद यह आवाज जोरों से उठाई जाने लगी कि दुष्कर्मियों को सजा देने के लिए कठोर कानूनी प्रावधान होने चाहिए, उन पर कोई रहम नहीं किया जाना चाहिए। आखिरकार सरकार को सख्त फैसला लेना ही पड़ा।