प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

वॉशिंगटन/एपी। अमेरिका के स्वास्थ्य अधिकारियों का मानना है कि ब्रिटेन के कुछ हिस्सों में पाया गया कोरोना वायरस का नया प्रकार वायरस से पुराने स्वरूप से अधिक गंभीर नहीं है और टीका इस पर बेअसर नहीं होगा, लेकिन फिर भी इसे ‘गंभीरता’ से लिए जाने की जरूरत है।

अमेरिका में संक्रामक रोग के विशेषज्ञ डॉक्टर एंथनी फाउची ने अमेरिकी अधिकारियों के इस फैसले का समर्थन किया कि ब्रिटेन से आने वाले लोगों को कोविड-19 से संक्रमित न होने की पुष्टि करने वाली रिपोर्ट के साथ ही देश में आने दिया जाए।

उन्होंने कहा कि इस नए ‘स्ट्रेन’ (प्रकार) पर ‘सावधानी से गौर’ किया जाना चाहिए और ‘हम इस पर बेहद गहनता से गौर कर रहे हैं’।

फाउची ने कहा, ‘क्या इससे लोग अधिक बीमार हो रहे हैं? क्या यह अधिक खतरनाक वायरस है? और इसका जवाब है कि ऐसा कुछ प्रतीत नहीं होता।’

फाउची ने कहा कि ब्रितानी अधिकारियों ने अपने अमेरिकी सहकर्मियों को बताया है कि वायरस के लिए लाया गया टीका इस नए ‘स्ट्रेन’ से निपटने में भी कारगर साबित होगा। उन्होंने कहा, ‘हम इस संदर्भ में खुद भी अध्ययन करने जा रहे हैं।’

फाउची ने कहा कि अमेरिका अभी वैश्विक महामारी के महत्वपूर्ण चरण में है और सबसे खतरनाक स्थिति शायद अभी आनी बाकी है।

उन्होंने मार्च अंत या अप्रैल की शुरुआत तक अधिकतर लोगों के टीका लग जाने का अनुमान भी लगाया। फाउची ने यह बयान ‘सीएनएन’ के कार्यक्रम ‘स्टेट ऑफ द यूनियन’ में दिया।