पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान एवं पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान एवं पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

नवाज के तीखे तेवर बरकरार, बाजवा और इमरान को आड़े हाथों लिया

इस्लामाबाद/लंदन/दक्षिण भारत। क्या पाकिस्तान एक बार फिर फौजी शासन की ओर बढ़ रहा है? इन दिनों यह सवाल सोशल मीडिया पर खूब चर्चा में है। पाकिस्तानी फौज और आईएसआई द्वारा पद से हटाए गए पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, इमरान खान समेत इन पर जमकर प्रहार कर रहे हैं।

नवाज ने लंदन से वीडियो लिंक के जरिए अशांत बलोचिस्तान की राजधानी क्वेटा में एक जनसभा को वीडियो लिंक से संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पाकिस्तान में लगातार बिगड़ रहे हालात को लेकर सेना प्रमुख जनरल बाजवा, आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद और प्रधानमंत्री इमरान खान को आड़े हाथों लिया।

नवाज ने कहा कि जनरल बाजवा को चुनावों में गड़बड़ी, सांसदों की खरीद-फरोख्त, संविधान की धज्जियां उड़ाकर इमरान नियाजी को प्रधानमंत्री बनाने, लोगों को गरीबी की ओर धकेलने जैसे कदमों का जवाब देना होगा।

नवाज ने बलोचिस्तान में सेना और आईएसआई द्वारा लंबे समय से गायब किए जा रहे लोगों का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा, मैं बलोच लोगों की समस्याओं से परिचित हूं, नवाज शरीफ जानता है कि लापता लोगों की समस्या अब भी यहां है। मैं जब पीड़ितों को देखता हूं तो दर्द महसूस कर सकता हूं।

नवाज ने कारगिल युद्ध और 12 अक्टूबर, 1999 को तत्कालीन पाक सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ द्वारा तख्ता पलट की घटना का भी जिक्र किया। उन्होंने सैन्य अधिकारियों की राजनीतिक आकांक्षाओं की आलोचना की और मुल्क के बुरे हालात के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराया।

बता दें कि इन दिनों नवाज शरीफ ब्रिटेन में हैं। उन्हें भ्रष्टाचार के मामले में सजा सुनाई गई थी लेकिन ‘स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं’ के कारण लंदन आ गए। अब नवाज यहीं से जनसभाओं को संबोधित कर पाक सरकार और फौज पर निशाना साध रहे हैं, जिसकी वजह से चर्चा है कि आने वाले दिनों मेंं पाकिस्तान में उलटफेर हो सकता है।