घटनास्थल पर मौजूद सुरक्षा बलों के जवान
घटनास्थल पर मौजूद सुरक्षा बलों के जवान

कराची/दक्षिण भारत। पाकिस्तान के कराची स्थित स्टॉक एक्सचेंज की इमारत में सोमवार को बड़ा आतंकी हमला हुआ। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सुरक्षा बलों ने चार हमलावरों को मार गिराया है।

शुरुआती रिपोर्टों में कहा गया है कि चार हमलावर अपने वाहन से बाहर आए और ग्रेनेड फेंके। इसके बाद वे गोलियां चलाते हुए इमारत में घुसने की कोशिश करने लगे। पुलिस के बयान के अनुसार, इस हमले में एक उपनिरीक्षक और तीन सुरक्षा गार्ड की मौत हो गई। तीन पुलिसकर्मियों समेत सात लोग घायल हो गए। हमले की जिम्मेदारी बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी ने ली है।

पुलिस ने कहा कि हथगोले और ऑटोमैटिक राइफलों से लैस हमलावरों ने सुबह करीब 10 बजे हमला किया। इससे इलाके में हड़कंप मच गया। पुलिस सर्जन डॉ. क़रार अहमद अब्बासी ने बताया कि सिविल अस्पताल, कराची में पांच शव लाए गए हैं।

घटना के संबंध में सिंध रेंजर्स ने कहा कि हमले के बाद पुलिस और रेंजर्स के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और चारों हमलावरों को मार गिराया। आसपास के क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। हमलावरों से हथियार और हथगोले बरामद किए गए हैं।

पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज के निदेशक फारुख खान ने हमले को ‘गंभीर और दुर्भाग्यपूर्ण’ करार दिया। स्थानीय मीडिया से बात करते हुए, उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण परिसर में लोगों की संख्या सामान्य से कम थी।

उन्होंने कहा कि आतंकवादियों को प्रवेश द्वार के बाहर रोक दिया गया था और उनमें से केवल एक ने परिसर में प्रवेश किया था। उनमें से कोई भी ट्रेडिंग हॉल या भवन में प्रवेश नहीं कर पाया।

हमले के बाद, सिंध के पुलिस महानिरीक्षक मुश्ताक महार ने डीआईजी दक्षिण से घटना की रिपोर्ट मांगी है। सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा और अर्थव्यवस्था पर हमला था।