चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग

ताइपे/एपी। दुनिया की उन्नत अर्थव्यवस्था वाले लोकतांत्रिक देशों खासतौर पर ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन की जनता के बीच चीन की छवि नकारात्मक बन रही है। यह बात ‘प्यू रिसर्च सेंटर’ के एक सर्वेक्षण में उजागर हुई है। चीन अपने कई पड़ोसी और अन्य देशों के साथ कारोबारी और राजनयिक विवादों में उलझा हुआ है और आक्रामक रुख रख रहा है।

सर्वेक्षण उन्नत अर्थव्यवस्था वाले 14 लोकतांत्रिक देशों में 10 जून से तीन अगस्त के बीच किया गया था। इसमें टेलीफोन के जरिए 14 देशों के 14,276 वयस्कों से बातचीत की गई। सर्वेक्षण में हिस्सा लेने वाले ज्यादातर लोगों की राय चीन के प्रति नकारात्मक है।

सर्वेक्षण में हिस्सा लेने वाले 81 फीसदी लोग चीन के प्रति नकारात्मक विचार रखते हैं। पिछले साल यह संख्या 24 फीसदी थी। दरअसल कोरोना वायरस महामारी के बाद ऑस्ट्रेलिया ने चीन में वायरस के उभार संबंधी जांच की मांग की थी, जिसके बाद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में तनाव पैदा हुआ है। वहीं दोनों देशों के बीच कारोबार संबंधी तनाव भी चल रहे हैं।

यह सर्वेक्षण अमेरिका, कनाडा, बेल्जियम, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, स्पेन, स्वीडन, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, जापान और दक्षिण कोरिया में किया गया है। चीन के प्रति नकारात्मक रुख रखने के पीछे की मुख्य वजहों में से एक कोरोना वायरस है और ज्यादातर लोग चीन के वायरस से निपटने से तरीके से सहमत नहीं हैं।

वहीं इस सर्वेक्षण में यह भी सामने आया कि ट्रंप की छवि भी बेहद खराब है और 83 फीसदी लोगों का कहना है कि वे उन पर विश्वास नहीं करते हैं।