नवाज शरीफ
नवाज शरीफ

इस्लामाबाद/दक्षिण भारत। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में सेना-पुलिस के साथ ही सियासी घमासान भी जोरों पर है। पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ‘इलाज’ कराने ब्रिटेन गए लेकिन अब वे वहीं से सरकार और सेना पर पर हमला बोल रहे हैं। इससे खफा पाक सरकार और एजेंसियां नवाज को स्वदेश लाने की पुरजोर कोशिशें कर रही हैं।

जानकारी के अनुसार, पाक ने ब्रिटिश सरकार को तीसरी बार पत्र भेजकर यह अनुरोध किया है कि नवाज शरीफ को पाकिस्तान भेज दिया जाए ताकि वे जेल में अपनी सजा काट सकें। यह पत्र इस बार इस्लामाबाद स्थित ब्रिटेन दूतावास को व्यक्तिगत रूप से सौंपा गया है।

पाकिस्तान सरकार ने नवाज को लाने के लिए इतनी तेजी इसलिए भी दिखाई है, क्योंकि उन्होंने हाल में एक डिजिटल रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान, सेना प्रमुख जनरल बाजवा और खुफिया एजेंसियों को जमकर आड़े हाथों लिया।

इस पत्र में पाकिस्तान सरकार ने ब्रिटिश अधिकारियों से अनुरोध किया है कि नवाज शरीफ का यात्रा वीजा फौरन रद्द कर दिया जाए, चूंकि उन्हें चिकित्सा के लिए लंदन में रहने की अनुमति मिली है।

पत्र में ब्रिटेन के 1974 के आव्रजन कानूनों का हवाला दिया गया है, जिनके तहत अगर किसी व्यक्ति को चार साल से अधिक के कारावास की सजा सुनाई गई हो तो वह अपने मूल देश के सुपुर्द कर दिया जाता है। अब देखना यह है कि इमरान सरकार के अनुरोध को ब्रिटेन स्वीकार करता है या नहीं।