पाकिस्तान में पौधों को नष्ट करते हुए उग्र भीड़
पाकिस्तान में पौधों को नष्ट करते हुए उग्र भीड़

हुड़दंगियों की भीड़ ने हरे पौधों पर उतारा गुस्सा, नजर आ रहे तबाही के निशान

पेशावर/दक्षिण भारत। एक ओर जहां दुनिया पर्यावरण को लेकर चिंतित है और पेड़ बचाने, पौधे लगाने को बहुत गंभीरता से लिया जा रहा है, वहीं पाकिस्तान में एक बेकाबू भीड़ ने अपना गुस्सा हरे-भरे पौधों पर निकालते हुए उन्हें जड़ से उखाड़ फेंका।

घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें देखा गया कि उग्र भीड़ पौधों को बलपूर्वक खींचते हुए उखाड़ फेंक रही है। यह हरकत करने वाले ज्यादातर नौजवान हैं। वे पौधों को जमीन से बाहर ही नहीं निकालते, बल्कि उन्हें बार-बार पटकते हुए पूरी तरह नष्ट करने की कोशिश करते हैं।

यह घटना खैबर पख्तूनख्वाह (केपीके) में मंडी खास इलाके की है। नौ अगस्त को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पौधे लगाने की अपील की थी, लेकिन यहां उनका दांव उलटा पड़ गया और लोगों ने पौधे लगाने के बजाय उखाड़ने में ज्यादा दिलचस्पी दिखाई।

बताया गया है कि ये लोग इमरान, उनकी पार्टी पीटीआई और स्थानीय नेताओं से नाराज थे। साथ ही इस जमीन पर भी विवाद था। जब उन्हें पता चला कि यहां पौधे लगाए गए हैं तो उन्होंने स्थानीय नेताओं, पीटीआई या इमरान खान से सवाल करने के बजाय पौधों पर ही धावा बोल दिया।

इसके बाद देखते ही देखते यहां बेकाबू भीड़ ने ऐसा हुड़दंग मचाया कि इलाके में सिर्फ तबाही के निशान ही दिखाई दे रहे थे। सोशल मीडिया पर इन लोगों की चौतरफा निंदा हो रही है लेकिन इससे न तो पाकिस्तान सरकार को कोई फर्क पड़ता है और न ही उपद्रवियों की इस भीड़ को, क्योंकि जिस देश में आतंकवाद का महिमामंडन किया जाता है, वहां पर्यावरण जैसे मुद्दे ऐसे ही हुड़दंगियों के पांवों तले कुचलकर दम तोड़ देते हैं।