पाकिस्तानी मंत्री शेख राशिद
पाकिस्तानी मंत्री शेख राशिद

लाहौर/भाषा। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के विश्वस्त सहयोगी और प्रभावशाली मंत्री ने कहा कि कश्मीर मसले पर पाक ने कमजोरी प्रदर्शित की है और अपनी ही सरकार के उस दावे का खंडन किया कि इसने इस मसले का अंतरराष्ट्रीयकरण करने में सफलता पाई है।

पाकिस्तान सरकार के रेल मंत्री शेख राशिद ने कहा कि सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार कश्मीर के लोगों के साथ एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए देश में पांच फरवरी तक रैली आयोजित करेगी। राशिद ने संवाददाताओं को बताया, मुझे लगता है कि कश्मीर मसले पर अब तक हमने कमजोरी ही दिखाई है। मैने इस संबंध में कैबिनेट बैठकों में बात की है।

मंत्री का यह बयान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के उस बयान के कुछ दिन बाद आया है जिसमें उन्होंने कश्मीर के लोगों के प्रति पाकिस्तान के ‘समर्थन’ को दोहराया था। खान ने गुरुवार को ट्वीट किया था, जम्मू-कश्मीर का विवाद निश्चित तौर पर प्रासंगिक सुरक्षा परिषद प्रस्ताव तथा कश्मीरी आवाम की इच्छा के अनुसार सुलझाया जाना चाहिए। कश्मीरी लोगों का हम लगातार नैतिक, राजनीतिक और राजनयिक समर्थन करते रहेंगे..।’

शुक्रवार को खान ने कश्मीर की स्थिति पर बैठक की अध्यक्षता की थी, इस बैठक में सेना अध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा, आईएसआई के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल फैयाज हमदी, विदेश सचिव सोहैल महमूदी और सेना तथा सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया।

बैठक में हर साल पांच फरवरी को कश्मीर के लोगों के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए आयोजित किए जाने वाले कश्मीर दिवस की तैयारियों पर चर्चा हुई। इस साल का कश्मीर दिवस अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत सरकार की ओर से पिछले साल पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 के तहत प्राप्त विशेष दर्जा वापस लेने और राज्य को दो केंद्र शासित क्षेत्रों में बांटने के निर्णय के बाद पहली बार पाकिस्तान में यह दिवस मनाया जाएगा।

केंद्र सरकार के इस निर्णय का पाकिस्तान ने कड़ा विरोध किया था जबकि भारत सरकार ने यह कह कर इसका समर्थन किया कि विशेष दर्जा से जम्मू-कश्मीर में केवल आतंकवाद को ही बढ़ावा मिला है। इससे पहले दिसंबर में मंत्री राशिद ने ऐतिहासिक करतारपुर गलियारे के बारे में कहा था कि यह पाकिस्तान सेना अध्यक्ष जनरल बाजवा के दिमाग की उपज है। बड़बोले मंत्री के रूप में प्रसिद्ध राशिद ने कहा था कि यह गलियारा भारत को हमेशा तकलीफ देता रहेगा।