नेपाल में चीनी राजदूत होउ यान्की
नेपाल में चीनी राजदूत होउ यान्की

काठमांडू/दक्षिण भारत। पड़ोसी देश नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली द्वारा हाल में दिए गए भारतविरोधी बयानों के बाद एक महिला काफी चर्चा में हैं। नेपाल में उनके दबदबे का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि प्रधानमंत्री कार्यालय से लेकर सेना प्रमुख पूर्ण चंद्र थापा और सभी महत्वपूर्ण दफ्तरों एवं स्थानों तक उनकी ‘सीधी’ पहुंच है। कहा तो यह भी जाता है कि वे अपने इशारों पर नेपाल के बड़े-बड़े अधिकारियों और नेताओं को मनचाहा ‘नाच’ नचाती हैं।

मॉडल जैसी दिखने वाली यह महिला कौन है? यह सवाल इन दिनों गूगल पर खूब सर्च किया जा रहा है। इस महिला का नाम होउ यान्की है जो काठमांडू में चीन की राजदूत हैं। सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहने वाली होउ खास अंदाज में फैशन मॉडल जैसी अपनी तस्वीरें पोस्ट करती रहती हैं जिन्हें उनके प्रशंसक खूब पसंद करते हैं।

नेपाली प्रधानमंत्री ओली द्वारा पिछले दिनों विवादित नक्शा पेश किए जाने के अप्रत्याशित कदम के पीछे इस चीनी राजदूत की महत्वपूर्ण भूमिका बताई जा रही है जो लगातार बीजिंग में बैठे अपने राजनीतिक नेतृत्व के इशारे पर दो मित्र देशों के रिश्तों में जहर घोल रही है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, नक्शा विवाद के अलावा हाल में नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के भीतर प्रतिद्वंद्वी गुट की अगुवाई में ओली के खिलाफ भड़क रही नाराजगी को दूर करने के लिए भी होउ ने नेपाल के कुछ शीर्ष नेताओं से संपर्क किया था। होउ की नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री एवं एनसीपी अध्यक्ष पुष्प कमल दहल प्रचंड के साथ मित्रता चर्चा में है।

नेपाल में सबसे शक्तिशाली राजनयिक के रूप में होउ यान्की नेपाली सेना प्रमुख जनरल थापा की भी करीबी हैं। 13 मई को होउ ने काठमांडू में पीएलए के एक बड़े समारोह की अध्यक्षता की जिसमें जनरल थापा को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था।

पीएलए द्वारा बीजिंग से लाई गई मेडिकल सामग्री होउ द्वारा जनरल थापा को सौंपी गई थी। इसी तरह, जब अप्रैल की शुरुआत में नेपाल को कोविड-19 के शुरुआती संकट का सामना करना पड़ा, तो होउ ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और नेपाली राष्ट्रपति भंडारी के बीच एक संक्षिप्त टेलीफोनिक बैठक की व्यवस्था की थी।

होउ यान्की
होउ यान्की

दुनिया में कोरोना वायरस फैलाकर चौतरफा निंदा झेल रहे चीन ने एक बयान में नेपाली लोगों को यह आश्वासन ​दिया कि वह इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में उनका पूरा ध्यान रखेगा। नेपाल के सुर में अचानक आए बदलाव के बाद जब भारतीय मीडिया ने इसकी असल वजह तक पहुंचने की कोशिश की तो होउ भड़क उठीं। उन्होंने नेपाल के चर्चित अखबारों में इंटरव्यू देकर यह साबित करने की कोशिश की कि ‘कुछ गैर-जिम्मेदाराना’ रवैए वाले मीडिया ग्रुप जनता को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं।

हाल में होउ फिर चर्चा में आईं जब उन्होंने काठमांडू में एक एक्सक्लूसिव फोटोशूट के लिए किसी फैशन मॉडल की तरह पोज दिए। नेपाली राजधानी में लोकप्रिय पर्यटन स्थलों पर ली गईं ये तस्वीरें तुरंत सोशल मीडिया में वायरल हो गईं।

नेपाल में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए चीन वहां कई निर्माण कार्य भी कर रहा है। अक्सर होउ को उनका निरीक्षण करते देखा जा सकता है। बता दें कि होउ यान्की पाकिस्तान में भी तैनात रही हैं। उन्होंने पीकिंग विश्वविद्यालय में उर्दू की पढ़ाई की है। वे 2018 से नेपाल में बतौर चीनी राजदूत तैनात हैं।