logo
ज्यादा स्मार्ट, सुरक्षित और ज्यादा कुशल, कई खूबियों से लैस हैं टाटा मोटर्स के ये ट्रक
कंपनी ने बताया कि वह ग्राहकों को उनके रुपए का ज्यादा से ज्यादा मूल्य प्रदान करने के लिए ट्रांसपोर्टेशन को लगातार फिर से परिभाषित करती आई है
 
टाटा मोटर्स के कार्यकारी निदेशक ने कहा, ‘हमारे ट्रक भारत को जोड़ते हैं, देश की अर्थव्यवस्था के इंजन को रफ्तार देते हैं'

मुंबई/दक्षिण भारत। कमर्शल वाहन बनाने वाली दिग्गज कंपनी टाटा मोटर्स ने सीएनजी से चलने वाले भारत के पहले मीडियम और हैवी कमर्शल वाहन (एम एंड एचसीवी) ट्रक लॉन्‍च किया है। इसके साथ ही कंपनी द्वारा नए युग की एडवांस्ड ड्राइवर असिस्टेंस सिस्टम (एडीएएस) की पेशकश की गई है और प्राइमा, सिग्ना व अल्ट्रा ट्रकों की अपनी बेस्ट सेलिंग रेंज में गाड़ी चलाने में और सुविधा लाने के लिए विश्‍व-स्‍तरीय फीचर्स जोड़े गए हैं। विभिन्न उपयोग की जरूरत पूरी करने के लिए उन्नत इंटरमीडिएट और लाइट कमर्शल वाहन (आईएंड एलसीवी) के टिपर्स और ट्रकों को भी लॉन्च किया गया। इसमें खासतौर से तेजी से बढ़ते हुए लॉजिटिक्स और आधारभूत ढांचे की जरूरत शामिल थी।

इस संबंध में जानकारी देते हुए टाटा मोटर्स के कार्यकारी निदेशक गिरीश वाघ ने कहा, ‘हमारे ट्रक भारत को जोड़ते हैं और देश की अर्थव्यवस्था के इंजन को रफ्तार देते हैं। इंडस्ट्री लीडर होने के नाते हम कार्यक्षमता, उत्पादकता, कनेक्टिविटी, सुरक्षा और परफॉर्मेंस के क्षेत्र में नए मानदंड स्‍थापित कर रहे हैं।’

उन्होंने कहा, ‘हम लगातार भविष्य के लिए तैयार उत्‍पाद, सेवाएं और समाधान लॉन्च कर रहे हैं। आज हम जिन ट्रकों को लॉन्च कर रहे हैं, वे एडवांस ड्राइवर असिस्टेंट सिस्टम (एडीएएस) के साथ सुरक्षित ट्रांसपोर्ट की बढ़ती जरूरत को भी पूरा करते हैं। इस सिस्‍टम में कॉलिजन मिटिगेशन सिस्‍टम, लेन डिपार्चर वार्निंग सिस्‍टम, इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल, ड्राइवर अलर्ट और टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम शामिल हैं। ये ट्रक पर्यावरण को स्‍वच्‍छ रखने के नजरिए से बेहतरीन मोबिलिटी सोल्यूशन प्रदान करते हैं। इसमें वैकल्पिक फ्यूल पावरट्रेन्स भी शामिल हैं।’

उन्होंने कहा, ‘इन ट्रकों के हरेक पहलू को तरह-तरह की अलग-अलग ड्यूटी साइकल और विशेष प्रयोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए विशेष रूप से डिजाइन किया गया है। हम इन स्मार्ट ट्रकों के साथ कमर्शल वाहनों के बेमिसाल पोर्टफोलियो को और मजबूती प्रदान कर काफी खुश हैं। इसे बेहतरीन ऑपरेटिंग इकनॉमिक्स, सर्वश्रेष्ठ सुरक्षा के साथ बेहतर कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिहाज से डिजाइन किया गया है। हम अपने उपभोक्ताओं को लगातार बेहतर सर्विस देने के लिए ट्रांसपोर्टेशन को फिर से परिभाषित करने का काम लगातार जारी रखे हैं। इसी के साथ माल के ट्रांसपोर्टेशन के लिए अपनी लॉजिस्टिक्स चेन को ज्यादा प्रभावी बना रहे हैं।’

इन ट्रकों को तरह-तरह की श्रेणियों और निर्माण परिवहन की उभरती जरूरतों को पूरा करने के लिए नए सिरे से डिजाइन और निर्मित किया गया है। जिन आधुनिक ट्रकों को लॉन्च किया गया, वे टाटा मोटर्स के पहले से स्थापित ‘पावर ऑफ 6’ के लाभ को और बढ़ाते हैं। इनका उद्देश्य उत्पादकता में बढ़ोतरी के साथ स्वामित्व की लागत को कम करना है, जिससे बेड़े के ट्रकों से मुनाफा बढ़ रहा है।

कंपनी ने बताया कि उसके एम एंड एचसीवी और आई एंड एलसीवी रेंज के ट्रक फ्लीट ऐज से लैस होकर आते हैं। ये आदर्श फ्लीट मैनेजमेंट के लिए अगली पीढ़ी का डिजिटल समाधान हैं। कंपनी अपनी समस्‍त सेवाओं की पेशकश ‘संपूर्ण सेवा’ में ऑनसाइट सपोर्ट, बिना किसी परेशानी के ट्रकों का प्रयोग करने का आश्वासन, ट्रकों के खराब होने की स्थिति में मदद, बीमा, दुर्घटनाग्रस्त ट्रकों की मरम्मत, बढ़ी हुई वॉरंटी के साथ वाहनों के रखरखाव और लाइफ साइकिल मैनेजमेंट को लिए दूसरी ऐड-ऑन सर्विसेज प्रदान करते हैं।

कंपनी ने बताया कि वह ग्राहकों को उनके रुपए का ज्यादा से ज्यादा मूल्य प्रदान करने के लिए ट्रांसपोर्टेशन को लगातार फिर से परिभाषित करती आई है। इनमें नए युग की तकनीक और पावरट्रेन लॉन्च की गई है। यह ट्रक तरह-तरह की बॉडी, टिपर्स, टैंकर्स, बल्कर्स और ट्रेलर्स के विकल्प में मिलते हैं। यह एमएंड एचसीवी और आईएंड एलसीवी रेंज के ट्रक अलग-अलग क्षेत्रों के तरह-तरह का सामान ले जाने की जरूरतों और कार्यों को पूरा करने के लिए बनाए गए हैं। इसमें कृषि उत्पाद, सीमेंट, आरयन, स्टील, कंटेनर, व्‍हीकल कैरियर, पेट्रोलियम, केमिकल, वॉटर टैंकर, एलपीजी, एफएमसीजी, बड़े इलेक्ट्रिकल सामान, जल्द खराब होने वाली वस्तुओं, निर्माण, खनन सामग्री तथा नगरपालिका के कार्यों के लिए जरूरी सामान इधर से उधर भेजने की जरूरत के लिए बनाए गए हैं।

भारत के पहले सीएनजी से चलने वाले एम एंड एचसीवी ट्रक
एससीवी, आईएंड एलसीवी और बसों के सीएनजी वर्जन की सफलता के बाद टाटा मोटर्स ने 28 और 19 टन के नोड्स में भारत में सीएनजी से चलने वाले एम एंड एचसीवी ट्रक लॉन्च किए। नए सिग्‍ना सीएनजी ट्रक कम संचालन लागत, उच्च स्थायित्व और तरह-तरह के प्रयोग का आदर्श संयोजन प्रदान करते हैं, जिससे ट्रक मालिकों को अच्छा मुनाफा मिलता है। पर्यावरण के लिहाज से सुरक्षित सीएनजी मॉडल के ट्रक अलग-अलग व्‍हील बेस और लोड-डेक लंबाई के विकल्पों के साथ केबिन को व्यक्तिगत रूप से उनके अनुकूल बनाने के लिए कॉउल ऑप्शन से लैस है। इन मॉडल में 5.7 लीटर का एसजीआई इंजन लगाया गया है, जो 180 एचपी की उच्च पावर और 650 एनएम का टॉर्क जेनरेट करता है। आकर्षक कारीगरी और बेहतरीन बनावट के साथ मिलने वाले ये ट्रक 1000 किमी तक की रेंज ऑफर करते हैं।

एडीएएस के साथ मिलने वाला भारत का पहला ट्रक
टाटा मोटर्स भारत में सुरक्षित और स्मार्ट वाहन प्रदान करने के क्षेत्र में अग्रणी है। 2010 में लॉन्चिंग के बाद अपनी श्रेणी में सबसे अव्वल टाटा प्राइमा रेंज के ट्रकों ने आराम, स्टाइल, सुरक्षा, कारीगरी और संचालन में आसानी के क्षेत्र में लगातार नए मानक स्थापित किए। नए प्राइमा में भारत की पहली उन्‍नत ड्राइवर ऐक्टिव एवं पैसिव सुरक्षा खूबियों को पेश किया गया है। इसमें कॉलिजन मिटिगेशन सिस्‍टम (सीएमएस), खासतौर से भारत की सड़कोंकी स्थिति को देखते हुए व्‍यापक वैधता के साथ विकसित किया गया लेन डिपार्चर वॉर्निंग सिस्‍टम (एलडीडब्‍लूएस) शामिल है। इसके अलावा इसमें अतिरिक्त सुरक्षा फीचर, जैसे- ड्राइवर मॉनिटरिंग सिस्टम (डीएमएस), इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल (ईएससी) और टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम (टीपीएमएस) भी पेश किया गया है।

नए प्राइमा रेंज के ट्रक बेहतरीन कारीगरी से फिर से डिजाइन किए गए केबिन के साथ मिलते हैं। इसमें सुगम और सरल तरीके से ड्राइविंग और अपनी श्रेणी में बेहतरीन सुविधाओं के साथ ड्राइवर और वाहनों की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए अपनी श्रेणी में बेल्ट फीचर्स पेश किए गए हैं। पूरी लॉजिस्टिक्स वैल्यू चेन में उद्देश्यपूर्ण ढंग से ये सुविधाएं हितधारकों के साथ पूर्ण सहयोग से बढ़ाई गई है। इससे पूरी लॉजिस्टिक्स वैल्यू चेन में भी सुधार आया है।

लंबे सफर में माल की ढुलाई के लिए खासतौर से उच्च उत्पादकता सुनिश्चित करने के लिए ट्रकों में ये उद्देश्यपूर्ण सुधार किए गए हैं। इन ट्रकों में ये अपग्रेडेशन करने से पहले ट्रांसपोर्टरों, ड्राइवरों और उपभोक्ताओं के विचारों को जानने और समझने के लिए एक विस्तृत अध्ययन किया गया, जिसके बाद टाटा मोटर्स की डिजाइन और इंजीनियरिंग टीमों ने एक नया मानदंड स्‍थापित करने के लिए नई आधुनिक तकनीक को भी ट्रकों में शामिल करने के लिए संपूर्ण रूप से कार्य किया।

<