logo
दुनिया जिस भरोसेमंद साथी को तलाश रही है, उस पर खरा उतरने का सामर्थ्य सिर्फ भारत के पास: मोदी
'मैं काशी का सांसद हूं, इसलिए इतना चाहूंगा कि कभी समय निकालकर मेरी काशी देखकर आइए'
 
उप्र में 80 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के निवेश से संबंधित समझौते यहां हुए हैं

लखनऊ/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को लखनऊ में यूपी इन्वेस्टर्स समिट 3.0 की ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की युवा शक्ति में वो सामर्थ्य है कि आपके सपने और संकल्पों को नई उड़ान, नई ऊंचाई देगा। उत्तर प्रदेश के नौजवानों का परिश्रम, सामर्थ्य, समझ, समर्पण आपके सभी सपने, संकल्पों को सिद्ध करके रहेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं काशी का सांसद हूं, इसलिए इतना चाहूंगा कि कभी समय निकालकर मेरी काशी देखकर आइए। काशी बहुत बदल गई है। विश्व की ऐसी नगरी, अपनी पुरातन सामर्थ्य के साथ नए रंग-रूप में सज सकती है, यह उत्तर प्रदेश की ताकत का जीता-जागता उदाहरण है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उप्र में 80 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के निवेश से संबंधित समझौते यहां हुए हैं। यह रिकॉर्ड निवेश उप्र में रोजगार के हजारों नए अवसर बनाएगा। यह भारत के साथ ही उत्तर प्रदेश की ग्रोथ स्टोरी को बढ़ते दिखाता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया आज जिस भरोसेमंद साथी को तलाश रही है, उस पर खरा उतरने का सामर्थ्य सिर्फ हमारे लोकतांत्रिक भारत के पास है। दुनिया आज भारत के पोटेंशियल को भी देख रही है और भारत की परफॉर्मेंस की भी सराहना कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम जी20 अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेज़ी से बढ़ कर रहे हैं। आज भारत ग्लोबल रीटेल इन्डेक्स में दूसरे नंबर पर है। भारत, दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ऊर्जा उपभोक्ता देश है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते साल दुनिया के 100 से अधिक देशों से, 84 बिलियन डॉलर का रिकॉर्ड एफडीआई आया है। भारत ने बीते वित्तीय वर्ष में 417 बिलियन डॉलर यानी 30 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का कारोबारी निर्यात करके नया रिकॉर्ड बनाया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हाल में केंद्र की राजग सरकार ने अपने आठ वर्ष पूरे किए हैं। इन वर्षों में हम रिफॉर्म-परफॉर्म-ट्रांसफॉर्म के मंत्र के साथ आगे बढ़े हैं। हमने नीति स्थिरता पर जोर दिया है, कॉर्डिनेशन पर जोर दिया है, ईज आफ डुइंग बिजनेस पर जोर दिया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने अपने रिफॉर्म से एक राष्ट्र के रूप में भारत को मजबूती देने का काम किया है।
वन नेशन-वन टैक्स जीएसटी हो, वन नेशन-वन ग्रिड हो, वन नेशन-वन मोबिलिटी कार्ड हो, वन नेशन-वन राशन कार्ड हो - ये प्रयास, हमारी ठोस और स्पष्ट नीतियों का प्रतिबिंब हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भारत की पांचवें-छठवें हिस्से की आबादी रहती है यानी उप्र के एक व्यक्ति की बेहतरी, भारत के हर छठे व्यक्ति की बेहतरी होगी। मेरा विश्वास है कि उप्र ही है जो 21वीं सदी में भारत की ग्रोथ स्टोरी को मूमेंटम देगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बजट में हमने गंगा के दोनों किनारों पर पांच-पांच किमी के दायरे में केमिकल फ्री प्राकृतिक खेती का कॉरिडोर बनाने की घोषणा की है। उप्र में गंगा 1,100 किमी से ज्यादा लंबी है और यहां के 25-30 जिलों से होकर गुजरती है, प्राकृतिक खेती की बड़ी संभावना यहां बनने जा रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि तेज विकास के लिए, हमारी डबल इंजन की सरकार आधारभूत संरचना, निवेश और उत्पादन तीनों पर एक साथ काम कर रही है। इस साल के बजट में साढ़े 7 लाख करोड़ रुपए के अभूतपूर्व पूंजीगत व्यय का आवंटन इसी दिशा में उठाया गया कदम है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 2014 में देश में 100 से भी कम ग्राम पंचायतें ऑप्टिकल फाइबर से जुड़ी थीं। आज ऑप्टिकल फाइबर से जुड़ी ग्राम पंचायतों की संख्या भी पौने दो लाख को पार कर गई है। 2014 में हमारे देश में सिर्फ साढ़े 6 करोड़ ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबर्स थे। आज इनकी संख्या 78 करोड़ से ज्यादा हो चुकी है।2014 में एक जीबी डेटा करीब-करीब 200 रुपए का पड़ता था। आज इसकी कीमत घटकर 11-12 रुपए रह गई है।

भारत दुनिया के उन देशों में है जहां इतना सस्ता डेटा है। 2014 से पहले हमारे यहां कुछ 100 स्टार्ट-अप्स ही थे। लेकिन आज देश में रजिस्टर्ड स्टार्ट-अप्स की संख्या भी 70 हजार के आसपास पहुंच रही है। हाल में भारत ने 100 यूनिकॉर्न का रिकॉर्ड भी बनाया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी नई इकोनॉमी की डिमांड को पूरा करने के लिए डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर की मजबूती का बहुत लाभ आप लोगों को मिलने वाला है।

<