स्वर्णिम विजय वर्ष: वायुसेना स्टेशन ने प्राप्त की विजय मशाल, 1971 के नायकों को किया सलाम

विजय मशाल प्राप्त करते हुए सैन्य अधिकारी। फोटो सोत: भारतीय वायुसेना।
विजय मशाल प्राप्त करते हुए सैन्य अधिकारी। फोटो सोत: भारतीय वायुसेना।

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। ‘स्वर्णिम विजय वर्ष’ 2021 के स्मरणोत्सव कार्यक्रमों के भाग के रूप में, वायुसेना स्टेशन जलाहल्ली ने शनिवार को 1971 के युद्ध नायकों और उनके परिजन का अभिनंदन किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 16 दिसंबर, 2020 को प्रज्वलित की गई विजय मशाल, ग्रुप कैप्टन एसए वर्गीज द्वारा वायुसेना स्टेशन जलाहल्ली में प्राप्त की गई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि पूर्व वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल फली होमी मेजर ने युद्ध नायकों और उनके परिजन को स्मृति चिह्न भेंट किए।

एयर मार्शल आरडी माथुर, एयर ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ, हेडक्वार्टर, ट्रेनिंग कमांड ने कार्यक्रम को संबोधित किया और 1971 के युद्ध नायकों की वीरता को सलाम किया, जो वायुसेना के योद्धाओं की वर्तमान पीढ़ी को पेशेवर उत्कृष्टता के उच्चतम मानकों का अनुकरण करने के लिए प्रेरित करते हैं।

समारोह में एयर मार्शल एचबी राजाराम (सेवानिवृत्त), एयर मार्शल एसपी सिंह (सेवानिवृत्त), एयर वाइस मार्शल पीजे वालिया वरिष्ठ अधिकारी, मुख्यालय प्रशासन प्रशिक्षण कमान और अन्य विशिष्ट अतिथि और दिग्गज मौजूद थे। इस दौरान 1971 के युद्ध नायक, वीर चक्र विजेता विंग कमांडर असपारी रघुनाथ को सम्मानित किया गया।

युद्ध नायकों के प्रति आभार जताते हुए, उनके आवास स्थल से मिट्टी एकत्र की गई थी, जिसका उपयोग नई दिल्ली में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में पौधारोपण के लिए किया जाएगा।

कार्यक्रम में एयर योद्धा सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा द्वारा एक लाइव बैंड शो, नृत्य मंडली द्वारा प्रस्तुतियां और 1971 के युद्ध नायकों पर वृत्तचित्रों की स्क्रीनिंग ने माहौल को देशभक्ति से परिपूर्ण कर दिया।

देश के अलग-अलग स्थानों पर भ्रमण करने वाली यह विजय मशाल सेना के पायनियर कोर ट्रेनिंग सेंटर, बेंगलूरु की टीम को स्मरणोत्सव की आगामी यात्रा के लिए सौंपी जाएगी।