logo
कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी रोकने के लिए सीमाई क्षेत्रों में जांच चौकियां स्थापित होंगी: बोम्मई
सीएम ने यह भी कहा कि इस तरह की जांच चौकियों के लिए वो थाने जिम्मेदार होंगे, जिनके अधिकार क्षेत्र में ये होंगी
 
लॉकडाउन, अर्द्ध लॉकडाउन या सप्ताहांत कर्फ्यू की संभावना के बारे में पूछे जाने पर बोम्मई ने कहा कि उन्हें इस पर विशेषज्ञों की राय का इंतजार करना होगा

कलबुर्गी/भाषा। महाराष्ट्र और केरल में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी के बीच मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने मंगलवार को कहा कि उन जगहों पर जांच चौकियां स्थापित की जाएंगी, जहां कर्नाटक और पड़ोसी राज्यों के गांवों के बीच संपर्क है।

बोम्मई ने यह भी कहा कि इस तरह की जांच चौकियों के लिए वो थाने जिम्मेदार होंगे, जिनके अधिकार क्षेत्र में ये होंगी। बोम्मई ने संवाददाताओं से कहा, ‘पहली और दूसरी लहर के बाद से हमारा अनुभव यह रहा है कि जब भी हमारे पड़ोसी राज्यों में कोविड-19 के मामले बढ़ते हैं, तो कर्नाटक में भी संक्रमण बढ़ जाता है। हमें इस पर ध्यान केंद्रित करना होगा।’

सीमावर्ती क्षेत्रों में ढिलाई के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सीमा बहुत बड़ी है और मुख्य चौकियों पर ही जांच हो रही है। हालांकि, ग्राम स्तर पर पड़ोसी राज्यों से संपर्क है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘आज मैं उन थानों को जिम्मेदार ठहराने का निर्देश जारी करने जा रहा हूं, जहां गांवों के स्तर पर संपर्क है। हम ऐसे गांवों में जांच चौकियां बनाएंगे और लोगों को तैनात करेंगे।’

लॉकडाउन, अर्द्ध लॉकडाउन या सप्ताहांत कर्फ्यू की संभावना के बारे में पूछे जाने पर बोम्मई ने कहा कि उन्हें इस पर विशेषज्ञों की राय का इंतजार करना होगा। हालांकि, उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

बोम्मई ने कहा, ‘हमें जनस्वास्थ्य का ध्यान रखने के साथ-साथ अर्थव्यवस्था को भी आगे बढ़ाना है। यह हमारी सरकार की सोच है। मैं बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए जनता का समर्थन चाहता हूं।’

कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्कूलों और कॉलेजों को बंद करने की संभावना के बारे में, बोम्मई ने कहा कि वह शाम की बैठक में विशेषज्ञ जो भी राय देंगे, उसे मानेंगे।

कर्नाटक में सोमवार को कोविड-19 के 1,290 नये मामले सामने आये और पांच मरीजों की मौत हो गई। इनमें से 1,041 रोगी और तीन मरीजों की मौत के मामले बेंगलूरु के हैं।

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए