logo
केनरा बैंक ने जारी किए वित्तीय परिणाम, वैश्विक कारोबार 18,25,000 करोड़ के पार
बैंक के निदेशक मंडल ने आवश्यक अनुमोदन के अधीन 6.50 रुपए प्रति इक्विटी शेयर (65 प्रतिशत) के लाभांश की अनुशंसा की है
 
मार्च 2021 बनाम मार्च 2022 के आधार पर बताया कि निवल लाभ 64.90 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1666 करोड़ रुपए हुआ

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। केनरा बैंक ने शुक्रवार को वित्तीय परिणाम संबंधी आंकड़े जारी किए। ये आंकड़े 31 मार्च को समाप्त तिमाही और वर्ष के लिए हैं। बैंक ने बताया कि उसका वैश्विक कारोबार 18,25,000 करोड़ रुपए को पार कर गया है। इसी तरह निवल लाभ 122 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 5678 करोड़ रुपए हो गया है। परिचालनगत लाभ 17.27 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 23090 करोड़ रुपए हुआ है। बचत बैंक जमाराशियों में 12.22 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। शुल्क आधारित आय 16.59 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 6113 करोड़ रुपए हो गई है।

बैंक के निदेशक मंडल ने आवश्यक अनुमोदन के अधीन 6.50 रुपए प्रति इक्विटी शेयर (65 प्रतिशत) के लाभांश की अनुशंसा की है। मार्च 2021 बनाम मार्च 2022 के आधार पर बताया कि निवल लाभ 64.90 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1666 करोड़ रुपए हुआ। परिचालनगत लाभ में 18.80 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

वहीं, दिसंबर 2021 बनाम मार्च 2022 के आधार पर बताया कि निवल लाभ 10.89 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1666 करोड़ रुपए हो गया है। निवल ब्याज आय में 0.85 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

बैंक के वैश्विक कारोबार, मार्च 2022 की स्थिति में 8.39 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) की वृद्धि के साथ 1827556 करोड़ रुपए रहा, जिसमें वैश्विक जमाराशियां 1086409 करोड़ रुपए (7.47 प्रतिशत वर्ष-दर-वर्ष वृद्धि) और वैश्विक अग्रिम (सकल) रुपये 741147 करोड़ (9.77 प्रतिशत वर्ष-दर-वर्ष वृद्धि) रहा।    

बैंक का घरेलू जमा, मार्च 2022 की स्थिति में 6.69 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) की वृद्धि के साथ 1027767 करोड़ रुपए रहा है। आवास ऋण पोर्टफोलियो, 14.77 प्रतिशत की (वर्ष-दर-वर्ष) वृद्धि के साथ 73828 करोड़ रुपए रहा है।
 
बैंक का सीआरएआर, मार्च 2022 की स्थिति में 14.90 प्रतिशत रहा। जिसमें सीईटी 10.26 प्रतिशत, टियर-एक 11.91 प्रतिशत और टियर-दो 2.99 प्रतिशत है। बैंक की 31 मार्च की स्थिति में 9734 शाखाएं हैं। इनमें 3042 ग्रामीण, 2757 अर्द्ध-शहरी, 1978 शहरी और 1957 महानगरीय शाखाएं हैं। साथ ही 10817 एटीएम और 1391 रिसाइकलर्स हैं, जिससे बड़ी संख्या में ग्राहक सेवा ले रहे हैं।

<