logo
पहले की सरकारों में किसानों के नाम पर बड़ी-बड़ी घोषणाएं होतीं, लेकिन खाते में कुछ नहीं पहुंचता थाः मोदी
प्रधानमंत्री ने सूरत में ओलपाड में विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों के साथ बातचीत की
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि विशेष मेगा मेडिकल कैंप सेवा के माध्यम से लोगों को जोड़ने का एक तरीका है

सूरत/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को गुजरात के सूरत में ओलपाड में विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों के साथ बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि एक देश, एक राशनकार्ड ने प्रवासी श्रमिकों को सबसे अधिक लाभान्वित किया है, क्योंकि यह देश के किसी भी हिस्से में लाभार्थी को राशन वितरण की सुविधा प्रदान करता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज सूरत में एक प्रकार से डबल इंजन सरकार, भूपेंद्र-नरेन्द्र सरकार, अलग-अलग योजनाओं के हजारों लाभार्थियों का यह संगम देखना, आप सभी के दर्शन करना, मेरे लिए सौभाग्य की बात है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि विशेष मेगा मेडिकल कैंप सेवा के माध्यम से लोगों को जोड़ने का एक तरीका है, और मैं भूपेंद्र भाई को इस पहल के लिए तहे दिल से बधाई देता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि गुलामी के समय में सूरत देश के उन पहले स्थानों में था, जहां नमक कानून का विरोध हुआ था। सेवाभाव क्या होता है, सूरत के लोग बखूबी समझते हैं।

सूरत ने मुझे जितना सहयोग और आशीर्वाद दिया है, उसे मैं कभी नहीं भूल सकता। मुझे याद है, जब बरसों पहले तापी में बाढ़ आई थी तो मैंने युवाओं से मिलकर सूरत को फिर से संवारने का आग्रह किया था। देखते ही देखते, सूरत के युवा सड़कों पर निकल पड़े थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बेहतर स्वास्थ्य, बेहतर भविष्य का मार्ग बनाता है। इसी सोच के साथ बीते वर्षों में हमने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ-साथ जन-जागरूकता पर, बीमारियों से बचाव पर, बीमारियों को गंभीर होने से रोकने पर विशेष बल दिया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज पूरे गुजरात में मल्टी स्पेशलिटी अस्पतालों का सशक्त नेटवर्क तैयार हुआ है। पिछले दो दशकों में मेडिकल कॉलेज 11 से बढ़कर 31 हो चुके हैं। एम्स भी बन रहा है और कई मेडिकल कॉलेज प्रस्तावित हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के करोड़ों छोटे किसानों का कदम-कदम पर साथ देना, यह हमारी सरकार की प्राथमिकता है। पीएम किसान सम्मान निधि ऐसा ही एक प्रयास है। इस योजना के तहत अब तक देशभर के किसानों के बैंक खातों में लगभग 2 लाख करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर किए जा चुके हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले की सरकारों में किसानों के नाम पर बड़ी-बड़ी घोषणाएं होती थीं, लेकिन उनके खाते में कुछ नहीं पहुंचता था। लेकिन डबल इंजन की सरकार, किसानों के हितों को सर्वाेपरि मानते हुए काम कर रही है। इसी सच्ची नीयत के कारण ही देश का, गुजरात का किसान बार-बार हमें आशीर्वाद दे रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया ने कोविड-19 के दौरान सबसे बड़े टीकाकरण कार्यक्रम को लागू करने के हमारे प्रयासों की सराहना की है। जीडीपी के बढ़ते आंकड़े और यूके को पछाड़ना हमारे निरंतर विकास के स्पष्ट उदाहरण हैं।

<