logo
श्रीराम मंदिर का निर्माण रोकने के लिए कांग्रेस, सपा, बसपा ने ढेर सारे प्रयत्न किए: शाह
शाह ने कहा कि सपा के शासन में तीन 'पी' हुआ करते थे- परिवारवाद, पक्षपात, पलायन
 
'जब देश के जनता ने पूर्ण बहुमत के साथ भाजपा की सरकार बनाई, नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने और आज मैं देख कर आया हूं कि रामलला का मंदिर उसी स्थान पर आज बन रहा है'

अयोध्या/दक्षिण भारत। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को उप्र के अयोध्या में जनसभा को संबोधित करते हुए विपक्ष को जमकर आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि इस भूमि ने वर्षों तक प्रभु श्रीराम लला के जन्मस्थान के लिए संघर्ष किया है। यहां अनेक बार विनाश भी हुआ, निर्माण भी हुआ। मगर हर बार विनाश पर निर्माण ने विजय प्राप्त की।

शाह ने कहा कि आजादी के बाद हमारे पहले गृह मंत्री सरदार पटेल ने सोमनाथ के ज्योतिर्लिंग का पुनर्निर्माण किया था। अब 75 साल के बाद देश के करोड़ों लोग सौभाग्यशाली हैं कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के शिला पूजन का काम किया।

शाह ने कहा कि श्रीराम के भव्य मंदिर को बनने से रोकने के लिए कांग्रेस, सपा और बसपा ने अपने शासन में ढेर सारे प्रयत्न किए। आप सभी को याद होगा, इन लोगों ने कारसेवकों पर गोली चलाई थी। राम सेवकों पर डंडे बरसाए थे, रामसेवकों को मारकर सरयूं नदी में बहा दिया गया था।

शाह ने कहा कि जब देश के जनता ने पूर्ण बहुमत के साथ भाजपा की सरकार बनाई, नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने और आज मैं देख कर आया हूं कि रामलला का मंदिर उसी स्थान पर आज बन रहा है।

शाह ने कहा कि बुआ-बबुआ के शासन में हमारे आस्था के प्रतीकों का सम्मान नहीं होता था।आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उप्र के मुख्यमंत्री योगी हर एक आस्था के स्थान को गौरव प्रदान करने का काम कर रहे हैं।

शाह ने कहा कि भाजपा की सरकार ने अयोध्या को अपना प्राचीन गौरव वापस दिलाने का काम किया है। अयोध्या में प्रभु श्रीराम के नाम से जोड़कर श्रीराम अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बन रहा है, जो दुनिया के सभी स्थानों से रामभक्तों को अयोध्या लाने का काम करेगा।

शाह ने कहा कि सपा के शासन में तीन 'पी' हुआ करते थे- परिवारवाद, पक्षपात, पलायन। जबकि भाजपा तीन 'वी' के आधार पर चलती है- विकास, व्यापार, सांस्कृतिक विरासत।

बुआ-बबुआ और कांग्रेस पार्टी कभी उप्र का विकास नहीं कर सकतीं। सपा के शासन में यहां पूरे प्रदेश में गुंडों और माफिया का बोलबाला था। हमारे लोगों को पलायन पर मजबूर कर दिया जाता था।

शाह ने कहा कि योगी की सरकार आने के बाद पलायन करवाने वाले, खुद भाग रहे हैं। पहले माफियाओं से पुलिस डरती थी, जबकि आज माफिया पुलिस के सामने सरेंडर कर रहा है।

वहीं, संत कबीर नगर में जनसभ को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि मैं उत्तर प्रदेश में जब भी आता हूं तो बहुत ही भावुक और रोमांचित हो जाता हूं। मैं साल 2014 में भाजपा का प्रभारी था, 2017 और 2019 में पार्टी का अध्यक्ष था। इन तीनों चुनाव में उत्तर प्रदेश की जनता ने भाजपा पर भोले शंकर की तरह कृपा की है।

शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने गोरखपुर में खाद का कारखाना लगाया, बायोफ्यूल प्लांट लगाया और अभी कुछ ही दिन पहले काशी में औरंगजेब के समय से जो बाबा विश्वनाथ का दरबार सूना पड़ा था, बाबा के दरबार का पुनरुद्धार करने का काम प्रधानमंत्री मोदी ने किया है।

शाह ने कहा कि ये समाजवादी पार्टी के लोग जिन्होंने कारसेवकों पर डंडे बरसाए, गोलियां चलवाईं, ये लोग ताना मारते थे कि मंदिर वहीं बनाएंगे, तिथि नहीं बताएंगे। अरे अखिलेश बाबू! दम हो तो मंदिर निर्माण रोक लो। प्रधानमंत्री मोदी ने 5 अगस्त, 2020 को अयोध्या में भूमि पूजन कर मंदिर निर्माण का शिलान्यास कर दिया है।

शाह ने कहा कि समाजवादी पार्टी के इत्र की दुर्गंध आज पूरे उत्तर प्रदेश में फैल गई है। आज जब छापेमारी चल रही है, तो उनके पेट में उबाल आ रहा है। 

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए