logo
मप्र: अधिकारी का बयान- हिंदुस्तान में शराब पीने वाला झूठ नहीं बोलता, सही बोलता है!
अ​धिकारी के बोलने के ढंग से लगता है कि उन्होंने यह बात 'बहुत गंभीरता' से कही है
 
पत्रकार यह पूछते हैं कि ग्राहक को किस तरह वेरिफाई किया जाएगा, तो अधिकारी कहते हैं, 'यह तो उसकी ईमानदारी से है कि वह बोलेगा कि हां, मुझे लग गए हैं 

खंडवा/दक्षिण भारत। 'शराब पीने वाला झूठ नहीं बोलता है, वह सही बोलता है' - यह कहना है मध्य प्रदेश में खंडवा जिले के आबकारी अधिकारी आरपी किराड़ का। अधिकारी महोदय का यह बयान सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जा रहा है और लोग इस पर चुटकी भी ले रहे हैं।

वायरल वीडियो में इन अधिकारी से पत्रकार कोरोना टीकाकरण और शराब बि​क्री को लेकर कुछ सवाल पूछ रहे हैं। इस पर अधिकारी यह कहते नजर आते हैं कि शराब पीने वाला झूठ नहीं बोलता है। अ​धिकारी के बोलने के ढंग से लगता है कि उन्होंने यह बात 'बहुत गंभीरता' से कही है।

अधिकारी कहते हैं, 'प्रशासन का आदेश था कि अधिक से अधिक वैक्सीन लगें, जनता जागरूक हो, इस कारण स्थानीय प्रशासन ने ये आदेश दिए। उसके तहत हमने यह आदेश निकाला है कि जिसके दोनों डोज लग गए हों, उसी को हम दारू की बिक्री करेंगे। .. और उससे पूछता है सेल्समैन कि आपके दोनों डोज लग गए; तो दोनों डोज लग जाते हैं तो हम उसे बिक्री कर रहे हैं और प्रेरित भी कर रहे हैं। बोर्ड भी लगवा रहे हैं। हर दुकान पर बोर्ड लगेगा कि दोनों डोज वालों को ही दारू बेचेंगे।' 

इस पर पत्रकार यह पूछते हैं कि ग्राहक को किस तरह वेरिफाई किया जाएगा, तो अधिकारी कहते हैं, 'यह तो उसकी ईमानदारी से है कि वह बोलेगा कि हां, मुझे लग गए हैं ... और हिंदुस्तान में अधिकतर ... हमारा खुद का अनुभव है कि दारू पीने वाला सही बोलता है, झूठ नहीं बोलता है।' 

क्या इसके लिए कोई प्रमाणपत्र दिखाना होगा? इसके लिए अधिकारी बताते हैं कि 'नहीं, जो ग्राहक बोलेगा कि मेरे दोनों डोज लग गए हैं, उसे दे रहे हैं।'

अधिकारी के इस बयान पर कई लोगों ने आपत्ति भी जताई है। उन्होंने कहा है कि ऐसे बयान शराब जैसी बुराई का महिमामंडन है जो समाज में कई खराबियों के लिए जिम्मेदार है।

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए