logo
कौन हैं बेंगलूरु निवासी सुरेखा जिनका प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ में किया जिक्र?
 
कौन हैं बेंगलूरु निवासी सुरेखा जिनका प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ में किया जिक्र?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ कार्यक्रम में देशवासियों को संबोधित करते हुए बेंगलूरु निवासी नर्स सुरेखा से बातचीत की। केसी जनरल अस्पताल में वरिष्ठ नर्सिंग अधिकारी सुरेखा ने कहा कि वे देश के प्रधानमंत्री के साथ बातचीत करते हुए सम्मानित महसूस कर रही हैं। इस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि आप सभी साथी नर्सों और अस्पताल के कर्मचारियों के साथ मिलकर बेहतरीन काम कर रही हैं। देश आप सबका शुक्रगुजार है। कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में नागरिकों के लिए आपका क्या संदेश है?

इसके जवाब में सुरेखा ने कहा कि एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते मैं वास्तव में कुछ बताना चाहूंगी, जैसे कृपया अपने पड़ोसियों के साथ विनम्र रहें और शुरुआती टेस्ट और उचित ट्रैकिंग हमें मृत्यु दर को कम करने में मदद करते हैं। यदि कोई भी लक्षण मिलता है तो कृपया खुद को अलग करें और डॉक्टर से परामर्श करें। जितना जल्दी हो सके, इलाज कराएं।

सुरेखा ने कहा कि समाज को इस बीमारी के संबंध में जागरूक और सकारात्मक रवैया रखना चाहिए। इससे घबराना और तनावग्रस्त नहीं होना चाहिए। इससे मरीज की हालत बिगड़ जाती है। उन्होंने कहा कि हम सरकार के प्रति आभारी हैं और वैक्सीन के लिए भी गर्व है।

सुरेखा ने बताया कि वे टीका लगवा चुकी हैं और कोई भी वैक्सीन तुरंत 100 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान नहीं करती, प्रतिरोधक क्षमता निर्माण में समय लगता है। टीका लगवाने से डरें नहीं। इसके बहुत कम साइड इफेक्ट्स हैं।

सुरेखा ने कहा कि कोरोना महामारी को हराने के लिए घर पर रहें, स्वस्थ रहें, जो लोग बीमार हैं उनसे संपर्क से बचें और नाक, आंख और मुंह को अनावश्यक छूने से बचें। सोशल डिस्टेंसिंग का अभ्यास करें, ठीक से मास्क पहनें, अपने हाथों को नियमित रूप से धोएं और जो घरेलू उपाय कर सकते हैं, करें। आयुर्वेदिक काढ़ा पिएं, हर रोज भाप लें, गरारे करें और श्वास संबंधी व्यायाम करें।

सुरेखा ने कहा कि फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं और पेशेवरों के प्रति सहानुभूति रखें। हमें आपके समर्थन और सहयोग की जरूरत है। हम मिलकर लड़ेंगे और महामारी को खत्म करेंगे।

सुरेखा के जवाब पर प्रधानमंत्री ने कहा कि वाकई, आप बहुत कठिन समय में मोर्चा संभाले हुए हैं। आप अपना ध्यान रखिए। आपके परिवार को भी मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं। मैं, देश के लोगों से भी आग्रह करूंगा कि जैसा सुरेखा ने अपने अनुभव से बताया है, कोरोना से लड़ने के लिए पाॅजिटिव स्पिरिट बहुत ज्यादा जरूरी है और देशवासियों को इसे बनाए रखना है।