logo
मोदी ने वाराणसी में 1,583 करोड़ रु. से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन, शिलान्यास किया
 
मोदी ने वाराणसी में 1,583 करोड़ रु. से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन, शिलान्यास किया
फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।

वाराणसी/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वाराणसी के विकास से जुड़े 1,583 करोड़ रुपए से अधिक की परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया।

इसमें बनारस हिंदू विवि में 100 बिस्तरों वाले एमसीएच विंग, गोदौलिया में बहु–स्तरीय पार्किंग, गंगा नदी में पर्यटन विकास के लिए रो-रो नौकाओं और वाराणसी-गाजीपुर राजमार्ग पर तीन-लेन वाले फ्लाईओवर पुल समेत विभिन्न सार्वजनिक परियोजनाओं एवं कार्यों का उद्घाटन शामिल है, जिनकी लागत करीब 744 करोड़ रुपए है।

इसी प्रकार ‘सेंटर फॉर स्किल एंड टेक्निकल सपोर्ट ऑफ सेंट्रल इंस्टीच्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी’ (सीआईपीईटी), जल जीवन मिशन के तहत 143 ग्रामीण परियोजनाओं और कारखियांव में आम व सब्जी के लिए एकीकृत पैक हाउस परियोजनाओं की आधारशिला रखी, जिनकी लागत लगभग 839 करोड़ रुपए है।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि बनारस के विकास के लिए जो कुछ भी हो रहा है, वह सबकुछ महादेव के आशीर्वाद और बनारस की जनता के प्रयास से ही जारी है। बीते कुछ महीने हम सभी के लिए बहुत मुश्किल भरे रहे हैं। कोरोना वायरस के बदले हुए और खतरनाक रूप ने पूरी ताकत के साथ हमला किया था, लेकिन काशी सहित, उप्र ने पूरे सामर्थ्य के साथ इतने बड़े संकट का मुकाबला किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश का सबसे बड़ा प्रदेश जिसकी आबादी दुनिया के दर्जनों बड़े-बड़े देशों से भी ज्यादा हो, वहां कोरोना की दूसरी लहर को जिस तरह उप्र ने संभाला, कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका वो अभूतपूर्व है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं काशी के अपने साथियों का, यहां शासन-प्रशासन से लेकर कोरोना योद्धाओं की संपूर्ण टीम का विशेष रूप से आभारी हूं। आपने दिन-रात जुटकर जिस प्रकार काशी में व्यवस्थाएं खड़ी कीं, वो बहुत बड़ी सेवा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज उप्र पूरे देश में कोरोना की सबसे ज्यादा टेस्टिंग करने वाला राज्य है। आज यह पूरे देश में सबसे ज्यादा वैक्सीनेशन करने वाला राज्य है। साफ-सफाई और स्वास्थ्य से जुड़ा जो इंफ्रास्ट्रक्चर उप्र में तैयार हो रहा है। आज उप्र में गांवों के स्वास्थ्य केंद्र हों, मेडिकल कॉलेज हों, एम्स हो, मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर में अभूतपूर्व सुधार हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अभी उप्र में करीब 550 ऑक्सीजन प्लांट्स बनाने का काम तेजी से चल रहा है। आज बनारस में 14 ऑक्सीजन प्लांट्स यहां लोकार्पण भी किया गया है। काशी नगरी आज पूर्वांचल का बहुत बड़ा मेडिकल हब बन रही है। जिन बीमारियों के इलाज के लिए कभी दिल्ली और मुंबई जाना पड़ता था, उनका इलाज आज काशी में भी उपलब्ध है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी के मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर में आज कुछ और कड़ियां जुड़ रही हैं। आज महिलाओं और बच्चों की चिकित्सा से जुड़े नए अस्पताल काशी को मिल रहे हैं। इसमें से 100 बेड की क्षमता बीएचयू में और 50 बेड जिला अस्पताल में जुड़ रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी के इतिहास, वास्तु, शिल्प कला, ऐसी हर जानकारी को आकर्षक तरीके से प्रस्तुत करने वाली ये सुविधाएं श्रद्धालुओं के काफी काम आएंगी। बड़ी स्क्रीन्स के माध्यम से गंगा घाट पर और काशी विश्वनाथ मंदिर में होने वाली आरती का प्रसारण पूरे शहर में संभव हो पाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश के अग्रणी इन्वेस्टमेंट डेस्टिनेशन के रूप में उभर रहा है। कुछ साल पहले तक जिस उप्र में व्यापार-करोबार करना मुश्किल माना जाता था, आज मेक इन इंडिया के लिए उप्र पसंदीदा जगह बन रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में आधुनिक कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए जो एक लाख करोड़ रुपए का विशेष फंड बनाया गया है, उसका लाभ अब हमारी कृषि मंडियों को भी मिलेगा। यह देश की कृषि मंडियों के तंत्र को आधुनिक और सुविधा संपन्न बनाने की तरफ एक बड़ा कदम है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उप्र में सरकार आज भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद से नहीं विकासवाद से चल रही है। इसीलिए आज उप्र में जनता की योजनाओं का लाभ सीधा जनता को मिल रहा है, इसीलिए आज उप्र में नए-नए उद्योगों का निवेश हो रहा है, रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं।