logo
सात दशक में हर घर जल पहुंचाने के लिए जो काम हुआ, पिछले दो साल में उससे ज्यादा हुआ: मोदी
गांधीजी कहते थे कि ग्राम स्वराज का वास्तविक अर्थ आत्मबल से परिपूर्ण होना
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि 2014 में जब देश ने मुझे नया दायित्व दिया तो मुझे गुजरात के ग्राम स्वराज के अनुभवों का राष्ट्रीय स्तर पर विस्तार करने का अवसर मिला।

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि आजादी के बाद सात दशक में भी देश की बड़ी आबादी तक नल से जल नहीं पहुंचाया जा सका क्योंकि तत्कालीन नीति निर्माताओं को बिना पानी की जिंदगी के दर्द का अहसास नहीं था। 

प्रधानमंत्री ने केंद्र सरकार के जल जीवन मिशन पर ग्राम पंचायत और पानी समितियों या ग्रामीण जल और स्‍वच्‍छता समितियों से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संवाद भी किया। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद के सात दशकों में हर घर जल पहुंचाने के लिए जो काम हुआ था, पिछले दो साल में उससे भी ज्यादा काम उनकी सरकार ने करके दिखाया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज 2 अक्तूबर का दिन है। देश के दो महान सपूतों को हम गर्व के साथ याद कर रहे हैं। पूज्य बापू और लाल बहादुर शास्त्री, इन दोनों महान व्यक्तित्वों के मन में गांव ही बसे थे। जल जीवन मिशन का विजन, सिर्फ लोगों तक पानी पहुंचाने का ही नहीं है। यह विकेंद्रीकरण का भी बहुत बड़ा मूवमेंट है। ये विलेज ड्रिवन - वीमन ड्रिवन मूवमेंट है। इसका मुख्य आधार, जनआंदोलन और जनभागीदारी है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बापू के सपने को साकार करने के लिए देशवासियों ने निरंतर परिश्रम किया है। आज देश के शहर और गांव खुद को खुले में शौच से मुक्त कर चुके हैं। करीब 2 लाख गांवों ने अपने यहां कचरा प्रबंधन का काम शुरु कर दिया है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि गांधीजी कहते थे कि ग्राम स्वराज का वास्तविक अर्थ आत्मबल से परिपूर्ण होना है। इसलिए मेरा निरंतर प्रयास रहा है कि ग्राम स्वराज की ये सोच, सिद्धियों की तरफ आगे बढ़े।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 2014 में जब देश ने मुझे नया दायित्व दिया तो मुझे गुजरात के ग्राम स्वराज के अनुभवों का राष्ट्रीय स्तर पर विस्तार करने का अवसर मिला। ग्राम स्वराज का असली लाभ तभी मिलेगा, जब गांव के लोगों की, गांव के विकास कार्यों से जुड़ी प्लानिंग और मैनेजमेंट में सक्रिय भागीदारी हो।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने बहुत-सी ऐसी फिल्में देखी हैं, कहानियां पढ़ी हैं, कविताएं पढ़ी हैं जिनमें विस्तार से ये बताया जाता है कि कैसे गांव की महिलाएं और बच्चे पानी लाने के लिए मीलों दूर चलकर जा रहे हैं। कुछ लोगों के मन में, गांव का नाम लेते ही यही तस्वीर उभरती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बहुत कम ही लोगों के मन में ये सवाल उठता है कि आखिर इन लोगों को हर रोज किसी नदी या तालाब तक क्यों जाना पड़ता है, आखिर क्यों नहीं पानी इन लोगों तक पहुंचता? मैं समझता हूं, जिन लोगों पर लंबे समय तक नीति-निर्धारण की जिम्मेदारी थी, उन्हें ये सवाल खुद से जरूर पूछना चाहिए था। आजादी से लेकर 2019 तक, हमारे देश में सिर्फ 3 करोड़ घरों तक ही नल से जल पहुंचता था। 2019 में जल जीवन मिशन शुरू होने के बाद से, 5 करोड़ घरों को पानी के कनेक्शन से जोड़ा गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि घर और स्कूल में शौचालय, सस्ते सेनेटरी पैड से लेकर गर्भावस्था के दौरान पोषण के लिए हजारों रुपए की मदद और टीकाकरण मातृ-शक्ति और मजबूत हुई है। गांव की महिलाओं का सशक्तिकरण हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। बीते वर्षों में बेटियों के स्वास्थ्य और सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत का विकास गांवों के विकास पर ही निर्भर है। गांव में रहने वाले लोगों,युवाओं, किसानों के साथ सरकार ऐसी योजनाओं को प्राथमिकता दे रही है, जो गांवों को और अधिक सशक्त बनाए। गांव के लोगों को गांव में ही बेहतर उपचार मिले, इसके लिए 1.5 से ज्यादा हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर बनाए जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत 2014 से पहले के पांच वर्षों में जितनी मदद सरकार ने बहनों के लिए भेजी, बीते सात वर्षों में उसमें लगभग 13 गुना बढ़ोतरी की गई है। लगभग पौने चार लाख करोड़ रुपए का ऋण भी स्वयं सहायता समूह की माताओं-बहनों को उपलब्ध कराया गया है।