logo
मलेरिया के उन्मूलन के लिए लोगों में जागरूकता जरूरी: के सुधाकर
मंत्री ने कहा कि किसी भी बीमारी के प्रति समाज में जागरूकता पैदा करना जरूरी है
 
बरसात के मौसम में मलेरिया, डेंगू जैसे रोग बढ़ जाते हैं

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। मलेरिया सहित संक्रामक रोगों के पूर्ण उन्मूलन के लिए लोगों में जागरूकता पैदा करना भी जरूरी है। स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के सुधाकर ने निर्देश दिए कि जहां मलेरिया अधिक है, वहां लोगों को जरूरी कदम उठाने के लिए जानकारी दें।

मंत्री ने कर्नाटक को 2025 तक मलेरिया मुक्त बनाने पर कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि पहले मलेरिया के लिए कोई उचित जांच प्रणाली नहीं थी। इसके चलते मौतें होती थीं। अस्सी और 90 के दशक में किसी भी बुखार से पहले मलेरिया की जांच शुरू हुई। ऐसे में सरकार निरीक्षण और जागरूकता कार्यक्रमों के जरिए कार्रवाई कर रही है।

मंत्री ने कहा कि किसी भी बीमारी के प्रति समाज में जागरूकता पैदा करना जरूरी है। बरसात के मौसम में मलेरिया, डेंगू जैसे रोग बढ़ जाते हैं।

बता दें कि राज्य के 13 जिलों में भारी बारिश हुई। ऐसी जगहों पर बारिश का पानी जमा हो जाता है। इससे मच्छरों के पनपने से संक्रामक बीमारियां फैलती हैं। देश में 2020 में मलेरिया के 1,86,532 मामले सामने आए थे। उनमें से कर्नाटक में 1,701 मामले सामने आए। प्रदेश में मलेरिया नियंत्रण में है, जिसके लिए अधिकारी व कर्मचारी बधाई के पात्र हैं।

मलेरिया को आम बीमारी नहीं माना जा सकता। राज्य में पिछले छह महीने में 100 मामले सामने आए हैं। बारिश का यह मौसम सबसे चुनौतीपूर्ण है। इसके मामले ज्यादातर दक्षिण कन्नड़ और उडुपी जिलों में देखे जाते हैं।

मंत्री ने कहा कि अधिक मामले उन जगहों पर सामने आ रहे हैं, जहां वन क्षेत्र अधिक है। मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने नया कर्नाटक बनाने का सपना देखा है। यह तभी संभव है जब आरोग्य कर्नाटक का निर्माण हो। मलेरिया ही नहीं, टीबी को भी जड़ से खत्म करना है। केंद्र सरकार ने मलेरिया के खात्मे के लिए 2030 का लक्ष्य रखा है। लेकिन हमारे राज्य में 2025 का लक्ष्य रखा गया है। यह सरकार, संगठनों और लोगों की भागीदारी से ही संभव है। प्रत्येक नागरिक को अपने घर के आसपास के क्षेत्र को साफ रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बारे में और अधिक जागरूकता पैदा की जानी चाहिए।

मंत्री ने मलेरिया के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए राष्ट्रीय संचारी रोगों के नियंत्रण केंद्र द्वारा आयोजित पोस्टर डिजाइन प्रतियोगिता जीतने वाली छात्रा अवनी हेगड़े की सराहना की और बधाई दी।

<