logo
कर्नाटक: तारापुर की दशकों पुरानी मांग पूरी, शशिकला जोले ने बांटे पट्टे
 
कर्नाटक: तारापुर की दशकों पुरानी मांग पूरी, शशिकला जोले ने बांटे पट्टे
फोटो स्रोत: मंत्री शशिकला जोले ट्विटर अकाउंट।

विजयपुरा/दक्षिण भारत। मुजराई, हज और वक्फ मंत्री शशिकला जोले ने भीमा नदी से लगातार बाढ़ के पानी में डूबे तारापुर गांव में लोगों को नया बसावट अधिकार जारी कर दशकों की मांग पूरी की है।

विजयपुरा जिले के सिंदगी तालुक के तारापुर गांव में सोमवार को 47 लोगों के दावों के वितरण कार्यक्रम में मंत्री शशिकला जोले ने शिरकत की।

भीमा हाईवे प्रोजेक्ट में अपना घर गंवा चुके तारापुर गांव के लोग पुनर्वास के अधिकार के लिए लगातार संघर्ष कर रहे थे। लेकिन करीब 11 साल से इस गांव के लोगों की समस्या का समाधान नहीं हुआ था।

साल 2016 में सिंदगी के तत्कालीन विधायक रमेश बूसानूरू ने 18 एकड़ में 199 घरों का आवंटन किया था। इसमें भेदभाव को लेकर ग्रामीणों ने विरोध किया था।

इस बीच, 2020 में तारापुर गांव में भीमा नदी में बाढ़ आ गई थी। उसके बाद ग्रामीणों को एक स्थानीय सरकारी स्कूल के देखभाल केंद्र में स्थानांतरित कर दिया गया था। वर्ष 2020 में बाढ़ की स्थिति में विजयपुरा जिले की तत्कालीन प्रभारी मंत्री शशिकला जोले ने तारापुर गांव का दौरा करने और अपने घरों को खोने वाले लोगों को फिर से बसाने का वादा किया था।

वर्ष 2016 में, सिंदगी तालुक पंचायत टास्क फोर्स की संयुक्त कार्यकारी समिति और सहायक कार्यकारी अधिकारी सिंदगी तहसीलदार केएनएनएल अफजलपुर ने जारी किए गए पट्टों के विवादों के मुद्दे पर तुरंत रिपोर्ट करने का निर्देश दिया।

मंत्री शशिकला जोले के सुझाव पर, फरवरी 2021 में, आम जनता की आपत्तियों के साथ, लाभार्थियों की एक अंतरिम सूची प्रकाशित की गई। अप्रैल 2021 के अंत में लाभार्थियों को राहत देना निश्‍चय किया गया। इसमें 19 पट्टों को वापस ले लिया गया और 47 नई डीड बनाई गईं।

इसी पृष्ठभूमि में अक्टूबर 2020 में मंत्री शशिकला जोले ने जनता से जो वादा किया था, उसे तारापुर गांव के 47 परिवारों को पट्टे भेंट करके निभाया।