logo
आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपी विधायक के पुत्र को पुलिस हिरासत में लिया गया
कारोबारी रामकृष्ण (43) ने तीन जनवरी पत्नी और जुड़ी बेटियों के साथ की थी आत्महत्या
 
टीआरएस ने राघवेंद्र राव को निलंबित कर दिया है

हैदराबाद/दक्षिण्ा भारत। तेलंगाना के भद्राद्री-कोठगुडेम जिले में एक व्यापारी और उसके परिवार के तीन सदस्यों को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में सत्तारूढ़ टीआरएस के एक विधायक के बेटे को शुक्रवार रात को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। पुलिस की एक विज्ञप्ति के अनुसार कोठगुडेम से तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के विधायक वनमा वेंकटेश्वर राव के बेटे वनमा राघवेंद्र राव को हिरासत में ले लिया गया है और पूछताछ की जा रही है।
कारोबारी रामकृष्ण (43) ने तीन जनवरी को पलोंचा शहर में अपनी पत्नी और जुड़वां बेटियों के साथ कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। बृहस्पतिवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक कथित वीडियो में मृतक ने विधायक के बेटे पर उसकी पत्नी के बारे में अपमानजनक टिप्पणी करने और आत्महत्या के लिये उकसाने का आरोप लगाया था। इस मामले में राघवेंद्र के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया और तब से ही वह फरार था।
हालांकि वनमा राघवेंद्र राव ने अपने ऊपर लगे आरोपों का इससे पहले खंडन किया था। पुलिस ने कहा कि उन्होंने एक स्थानीय अदालत में वीडियो पेश किया है। इससे पहले, पीड़ित ने कथित सुसाइड नोट में विधायक के बेटे को आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया था। नोट में मृतक की मां और बड़ी बहन के नाम का भी जिक्र है, जिनके साथ उसका संपत्ति का विवाद था। पुलिस ने तीनों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाना) के तहत मामला दर्ज किया था।
तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी, भाजपा और वाम दलों समेत कई राजनीतिक दलों ने घटना की निंदा करते हुए आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। विपक्षी दलों ने बृहस्पतिवार को इस मामले को लेकर प्रदर्शन किया था। शुक्रवार को उन्होंने रैलियां निकालकर वनमा राघवेंद्र राव की गिरफ्तारी की मांग की। टीआरएस सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री और पार्टी अध्यक्ष के चंद्रशेखर राव के निर्देश के बाद पार्टी ने राघवेंद्र राव को निलंबित कर दिया है।