capital punishment
capital punishment

नई दिल्ली/भाषा। उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के भाई ने शनिवार को कहा कि उनकी बहन को तब न्याय मिलेगा जब उसके साथ क्रूरता करने वाले उन सभी आरोपियों का भी वही हश्र हो जो बहन ने झेला है।

उन्होंने पत्रकारों से कहा, उसने मुझसे मिन्नत की कि भाई मुझे बचा लो। मैं बहुत दुखी हूं कि मैं उसे बचा नहीं सका।उन्होंने कहा कि इस घटना में शामिल लोगों को या तो मुठभेड़ में मारा जाए या फांसी पर लटका दिया जाए। उन्हें जीने का कोई हक नहीं है।

उन्होंने कहा, हम यहां से बिहार जाएंगे। आरोपियों ने पहले ही उसे जला दिया है और अब हम उसे दफनाएंगे। उन्नाव की 23 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता को शुक्रवार रात को कथित तौर पर पांच लोगों ने आग लगा दी थी जिसके बाद उसे विमान से दिल्ली लाया गया और यहां सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसने शुक्रवार रात को दम तोड़ दिया।