प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। कोरोना महामारी में मंदी का सामना कर रही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर है। एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग ने भारत की वृद्धि दर के अनुमान में सुधार किया है। एसएंडपी द्वारा मंगलवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार, चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के वृद्धि अनुमान को बढ़ाकर ऋणात्मक 9 प्रतिशत से ऋणात्मक 7.7 प्रतिशत किया गया है।

चूंकि कोरोना महामारी के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्थाएं चुनौतियों का सामना कर रही है। ऐसे में भारत सहित कई दिग्गज अर्थव्यवस्थाएं ऋणात्मक में प्रदर्शन कर रही हैं। वहीं, एसएंडपी द्वारा संशोधित अनुमान में यह बताया गया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार का दौर जारी है।

रेटिंग एजेंसी की यह रिपोर्ट कहती है कि भारतीय अर्थव्यस्था के संबंध में यह अनुमान बढ़ती मांग और कोरोना वायरस संक्रमण में आ रही कमी के मद्देनजर संशोधित किया गया है। एक बयान में एजेंसी ने कहा, ‘बढ़ती मांग और गिरती संक्रमण दरों ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर कोविड के प्रकोप के हमारे अनुमान को बदल दिया है।’

रेटिंग एजेंसी ने बताया, ‘मार्च 2021 में समाप्त होने वाले वित्तवर्ष के लिए वास्तविक जीडीपी वृद्धि को नकारात्मक 9 प्रतिशत से संशोधित करते हुए नकारात्मक 7.7 प्रतिशत कर दिया है।’ इसने बताया कि भारतीय अर्थव्यवस्था में सितंबर तिमाही में उम्मीद से अधिक तेजी से सुधार देखा गया है।

बता दें कि इस एजेंसी ने यह अनुमान लगाया है कि अगले वित्त वर्ष में वृद्धि दर 10 प्रतिशत तक जा सकती है। एजेंसी ने कहा कि भारत वायरस से जीना सीख रहा है और संक्रमण के मामलों में कमी आई है। इसके एशिया-प्रशांत के मुख्य अर्थशास्त्री शॉन रोचे ने इस क्षेत्र की अर्थव्यवस्थाओं के संबंध में तेजी से सुधार की बात को रेखांकित किया है।