logo
विप्र फाउंडेशन ने अपनी नई विंग विप्र वाहिनी की राष्ट्रीय प्रमुख दिल्ली की चन्द्रकान्ता राजपुरोहित को बनाया
राष्ट्रीय प्रभारी भरतराम तिवारी के मार्गदर्शन में काम करेगी विप्र वाहिनी
 
 
शिक्षक परिवार की बेटी, किसान परिवार की बहू, ब्राह्मण समाज की गौरव चन्द्रकान्ता राजपुरोहित एक ऐसा नाम है जिन्होंने देश और दुनिया में भारतीय नारी को गौरवान्वित किया है
 

पाली/कोलकाता/दक्षिण भारत। विप्र फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष महावीरप्रसाद सोती ने शनिवार को फाउंडेशन की नई विंग विप्र वाहिनी की राष्ट्रीय प्रमुख के नाम की घोषणा की। उन्होंने कहा कि विप्र वाहिनी की राष्ट्रीय प्रमुख दिल्ली की चन्द्रकान्ता राजपुरोहित को बनाया जा रहा है। वे वर्तमान में महिला प्रकोष्ठ की राष्ट्रीय प्रभारी का दायित्व संभाल रही हैं।

विप्र वाहिनी के राष्ट्रीय प्रभारी भरतराम तिवारी ने चन्द्रकान्ता राजपुरोहित के बारे में संक्षिप्त जानकारी देते हुए कहा है कि शिक्षक परिवार की बिटिया, किसान परिवार की बहू, ब्राह्मण समाज की गौरव चन्द्रकान्ता राजपुरोहित एक ऐसा नाम है जिन्होंने देश और दुनिया में भारतीय नारी को गौरवान्वित किया है। खेल जगत से अपना कैरियर शुरू कर उन्होंने वॉलीबॉल में एशियन मास्टर्स चेम्पियनशिप, मलेशिया और यूरोपियन मास्टर्स चेम्पियनशिप, इटली में भारतीय टीम की कैप्टन के रूप में गोल्ड जिता कर टीम को गगनचुंबी सफलता दिलाने का श्रेय प्राप्त किया। 

स्पोर्ट्स जगत में उन्होंने अनेक उपलब्धियाँ हासिल की हैं। भारतीय स्कूल  महिला वॉलीबॉल टीम (SGFI) की चयन समिति सदस्य, दिल्ली विश्वविद्यालय वॉलीबॉल चयन समिति सदस्य, खेलो इंडिया के प्रथम आयोजन में दिल्ली सरकार की ओर से प्रबन्धक का दायित्व, राजस्थान स्पोर्ट्स काउंसिल की कोच, FIVB स्विट्जरलैंड से इंटरनेशनल कोचिंग कोर्स लेवल-1 उत्तीर्ण, नेशनल गेम्स प्रतियोगिता के 14 स्पोर्ट्स में राजस्थान का प्रतिनिधित्व, अनेक बार राजस्थान महिला वॉलीबॉल टीम की कप्तान, राजस्थान बेस्ट प्लेयर अवार्ड जैसे दीर्घ और शीर्ष अलंकरणों से वे अभिषिक्त हैं।

चंद्रकांता राजपुरोहित वर्तमान में  दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग में स्पोर्ट्स कोच का दायित्व निर्वहन कर रही हैं। उन्होंने सिर्फ खेल जगत ही नहीं, अन्य विविध क्षेत्रों में भी अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करवायी है। वे बीकानेर व दिल्ली के ऑल इंडिया रेडियो, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली में  प्रवासी व जरूरतमंद लोगों को मदद व सेवाएँ प्रदान करती रही हैं। 

राजस्थान मित्र मंडल दिल्ली में उनकी सक्रिय भूमिका है। राजपुरोहित समाज की विभिन्न गौरवशाली संस्थाओं ने उन्हें समय समय पर राजपुरोहित समाज रत्न मुंबई, राजपुरोहित समाज भूषण पुष्कर, राजपुरोहित समाज गौरव चेन्नई सम्मान से नवाजा है। इंटरनेशनल रिसर्च फाऊंडेशन ऑफ इंडिया ने वुमेन ऑफ द ईयर अलंकरण प्रदान कर इनकी उपलब्धियों को सम्मानित किया है। चन्द्रकांता गौ भक्त हैं। संतप्रवर श्री तुलछाराम जी महाराज, गोऋषि स्वामी श्री दत्तशरणानन्दजी महाराज, शिक्षा सारथी आत्मानन्दजी महाराज के प्रति उनकी प्रगाढ़ श्रद्धा है।

आर्ट्स एज्यूकेशन में बैचलर्स, स्पोर्ट्स कोचिंग में ग्रेजुएट (बीपीएड ) तथा नेशनल स्पोर्ट्स अथोरिटी ऑफ इंडिया (पटियाला) पंजाब से डिप्लोमा  प्राप्त श्रीमती पुरोहित बचपन से ही अत्यन्त मेधावी हैं। तोलियासर गाँव के बीकानेर निवासी स्व.पी.आर.राजपुरोहित की पौत्री चन्द्रकांता की आरंभिक शिक्षा एम एस कॉलेज से हुई। इनके ससुर स्वर्गीय जेठू सिंह राजपुरोहित पाली जिले के बारवा गाँव से दो दशकों तक निर्विरोध सरपंच तथा बाली से लंबे समय तक प्रधान रहे। 

राजनैतिक रसूख वाले परिवार की बहू चन्द्रकान्ता के पति व प्रेरणा स्रोत अरविंदसिंह राजपुरोहित का दिल्ली में व्यवसाय है। श्रीमती पुरोहित विगत चार वर्षों से विप्र फाउंडेशन से जुड़ी हैं। वर्तमान में वे महिला विंग की राष्ट्रीय प्रभारी हैं। उनके कुशल नेतृत्व में विप्र फाउंडेशन के महिला प्रकोष्ठ ने खूब प्रगति की है। 

गत मार्च में इनके मुख्य संयोजन में संस्था ने दिल्ली में अभ्युदय उत्सव आयोजित किया था जिसमें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की धर्मपत्नी डॉ. मल्लिका नड्डा, शिव सेना की राज्यसभा सांसद  प्रियंका चतुर्वेदी, भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा, सोनीपत सांसद अरविंद कौशिक, कथा वाचक  जया किशोरी जी सहित अनेक दिग्गज हस्तियाँ व डेढ़ हजार से भी ज्यादा महिलाएं उपस्थित हुईं थीं। 

विप्र वाहिनी के राष्ट्रीय प्रभारी श्री तिवारी कहते हैं ... अन्याय के खिलाफ चन्द्रकांता राजपुरोहित की प्रखरता, भगवान के अलावा किसी से भी नहीं डरने वाली निडरता, सामाजिक कार्यों में सक्रियता, बेबाक बात रखने में ओजस्विता, उच्च कुलीन संस्कारशीलता, नारीजनित सौम्यता, संगठन के प्रति विश्वासपात्रता, संकल्प के प्रति दृढ़ता, सामाजिक दायित्वों के प्रति सचेतनता, अपनों से आत्मीयता, सँगठननिष्ठ की पात्रता जैसे गुणों का आँकलन कर ब्राह्मण समाज की सर्वोच्च संस्था विप्र फाउंडेशन द्वारा सँघर्ष व संग्राम की हुँकार विप्र वाहिनी की राष्ट्रीय प्रमुख का महत्ती दायित्व चन्द्रकान्ता राजपुरोहित को प्रदान किया जाना सम्पूर्ण युवा व महिला शक्ति का सम्मान है।

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए