काम नहीं आई चालाकी: सुरक्षा बलों को चकमा देने के चक्कर में लश्कर कमांडर पाक आतंकी समेत ढेर

सुरक्षा बलों के जवान। प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
सुरक्षा बलों के जवान। प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

श्रीनगर/दक्षिण भारत। सुरक्षा बलों ने जम्मू-कश्मीर के पारिमपोरा इलाके में मंगलवार तड़के जोरदार कार्रवाई करते हुए दो आतंकवादियों को मार गिराया। इनमें एक लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर नदीम अबरार है, जबकि दूसरा आतंकवादी पाकिस्तानी है।

बताया गया कि सुरक्षा बलों को आतंकी अबरार की हत्या जैसे गंभीर मामलों में तलाश थी। वह अब तक सुरक्षा बलों के शिकंजे से बचा हुआ था। वह सोमवार को उस वक्त पकड़ में आया जब पारिमपोरा में वाहनों की जांच की जा रही थी। इसके बाद उससे कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि मलूरा में एक स्थान पर एके-47 राइफल गुप्त रूप से रखी हुई है।

जब सुरक्षा बलों के जवान वहां पहुंचे तो पहले से मौजूद पाकिस्तानी आतंकी ने गोलीबारी शुरू कर दी। इसके साथ ही मुठभेड़ शुरू हो गई जिसमें ये दोनों आतंकी ढेर हो गए।

घटना के बारे में जानकारी देते हुए पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि खुफिया सूत्रों से सूचना मिली थी कि कुछ आतंकी राजमार्ग पर हमला करने की साजिश रच रहे हैं। इसके मद्देनजर जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ ने विभिन्न स्थानों पर नाकेबंदी कर रखी थी।

इसी दौरान पारिमपोरा नाके पर एक वाहन को जांच के लिए रोका गया। उसमें सवार लोगों को पहचान पत्र दिखाने के लिए कहा गया। वाहन में पीछे सीट पर बैठे एक शख्स ने ग्रेनेड निकालने की कोशिश की तो उसे पुलिस दल ने दबोच लिया। बाद में उस शख्स और वाहन चालक को हिरासत में ले लिया। जब उसका मास्क उतारा तो पता चला कि यह कोई और नहीं, बल्कि लश्कर कमांडर अबरार है।

अबरार के कब्जे से पिस्टल और कुछ ग्रेनेड मिले हैं। पूछताछ में उसने जिस एके-47 को छिपाकर रखने की बात कही, सुरक्षा बलों के जवानों ने उस मकान में प्रवेश किया तो वहां पहले से मौजूद पाकिस्तानी आतंकी गोलीबारी करने लगा। इससे सीआरपीएफ के तीन जवान घायल हुए। साथ ही अबरार भी घायल हो गया।

बाद में सुरक्षा बलों की ओर से जवाबी कार्रवाई की गई तो ये दोनों आतंकवादी ढेर हो गए। मकान से दो एके-47 राइफल बरामद हुई हैं। उसके अलावा कुछ गोला-बारूद भी मिला है।