विकास दुबे
विकास दुबे

कानपुर/भाषा। कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे के एक इनामी गुर्गे को रविवार को कल्याणपुर में मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया।

अपर पुलिस अधीक्षक (पश्चिमी) अनिल कुमार ने बताया कि दुबे के गुर्गे दया शंकर अग्निहोत्री को कल्याणपुर में पुलिस से मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। उसके पैर में गोली लगी है। उसे लाला लाजपत राय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उस पर 25 हजार रुपए का इनाम घोषित था।

पकड़े गए बदमाश ने अस्पताल पहुंचे संवाददाताओं के सामने कहा कि गत दो/तीन जुलाई की रात को बिकरू गांव में वारदात से पहले, उसके आका विकास दुबे के पास चौबेपुर थाने से किसी का फोन आया था जिसके बाद उसने पुलिस से सीधे टक्कर लेने के लिये उसे तथा अन्य साथियों को फोन करके अपने घर बुला लिया था।

अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस को अग्निहोत्री की मौजूदगी की सूचना मिली थी। पुलिस ने कल्याणपुर-शिवली मार्ग पर अग्निहोत्री को रोकने की कोशिश की तो उसने पुलिस पर गोली चला दी। हालांकि उससे कोई घायल नहीं हुआ। जवाबी कार्रवाई में बदमाश को पुलिस की गोली लगी और उसे दौड़ाकर पकड़ लिया गया।

गौतलब है कि गत दो/तीन जुलाई की दरम्यानी रात को चौबेपुर बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को एक मामले में पकड़ने गयी पुलिस टीम पर विकास के घर की छत पर मौजूद बदमाशों ने गोलियां बरसाई थीं। इस मामले में एक पुलिस उपाधीक्षक और तीन उपनिरीक्षकों समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे।