मप्र के इन 2 जिलों में रविवार या सोमवार से लगाया जा सकता है रात्रिकालीन कर्फ्यू

प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

भोपाल/भाषा। कोरोना वायरस के बढ़ते नए मामलों के मद्देनजर भोपाल एवं इंदौर जिलों में रविवार या सोमवार से रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाया जा सकता है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार शाम को यहां कोविड-19 की समीक्षा बैठक में कहा कि कोरोना संक्रमण प्रदेश में बढ़ रहा है, जो चिंता की बात है।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण को हर हाल में नियंत्रित करना है। इसके लिए सभी उपाय किए जाएँ। जन-जागरूकता अभियान चलाया जाए।

चौहान ने कहा, ‘कोरोना संक्रमण दर बढ़ती है तो सख्त कदम भी उठाए जाएंगे। भोपाल और इंदौर जिले में रविवार या सोमवार से रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाया जा सकता है।’ उन्होंने इन दोनों जिलों में सभा कक्ष में होने वाले आयोजनों में क्षमता से आधे लोगों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए।

चौहान ने कहा कि भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर सहित महाराष्ट्र की सीमा से लगे जिलों में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए विशेष सतर्कता बरती जाए।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र से आने वाले वायुयान, ट्रेनों और बसों के यात्रियों की थर्मल जांच की जाए और रोको-टोको अभियान के अंतर्गत मास्क और अन्य उपायों के लिए प्रेरित किया जाए। महाराष्ट्र से होने वाले आवागमन को सीमित करने के संबंध में भी बैठक में विचार किया गया।

चौहान ने कहा कि नागरिकों को कोरोना से सुरक्षा के सभी उपाय अपनाने के लिए प्रेरित किया जाए। मास्क लगाने, बार-बार साबुन से हाथ धोने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने, भीड़-भाड़ से बचने और कोरोना टीका लगवाने के लिए प्रेरित किया जाए।

उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर सहित महाराष्ट्र की सीमा से लगे जिलों और 10 से अधिक कोरोना संक्रमण के प्रकरणों वाले जिलों में दुकानदारों को अपनी दुकान में कोरोना से बचाव के सभी सुरक्षात्मक उपाय करने होंगे। दुकान के सामने रस्सी लगाई जाए। दुकान पर आने वाले ग्राहकों के मध्य पर्याप्त दूरी रखी जाए। ग्राहकों को सैनिटाइजर का उपयोग करने और मास्क लगाने के लिए प्रेरित किया जाए। जो दुकानदार इन सुरक्षा उपायों का पालन नहीं करेंगे उनके विरुद्ध कार्यवाही की जाए।

चौहान ने कहा कि त्यौहार में अन्य प्रदेशों से मध्यप्रदेश के लिए श्रमिकों का आना शुरू हो गया है। श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाए। सुरक्षा उपाय अपनाए जाएं। उन्होंने निर्देश दिए कि अधिक कोरोना संक्रमण वाले जिलों में कोविड कमांड सेंटरों को सक्रिय रखा जाए और पर्याप्त चिकित्सकों की सेवाएं दी जाएं।

चौहान ने कहा कि गंभीर कोरोना मरीज की मृत्यु नहीं होने पाए। इसके लिए हरसंभव चिकित्सा उपाय किए जाएं। बैठक में बताया गया कि शुक्रवार को प्रदेश में कोरोना के 603 नए मरीज मिले हैं, जिनमें से इंदौर में 219 और भोपाल में 138 संक्रमित शामिल हैं। पिछले सात दिनों में प्रदेश में औसतन प्रतिदिन 490 कोरोना संक्रमण के नये मामले आये।

मध्यप्रदेश में अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 2,67,176 तक पहुंच गई है, जिनमें से 3,883 लोगों की मौत हो चुकी है, 4,335 उपचाररत हैं और बाकी स्वस्थ हो गए हैं।