प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

फरीदाबाद/भाषा। उत्तर प्रदेश के कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी और हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के फरीदाबाद के एक गेस्ट हाउस में छिपे होने की सूचना के बाद पुलिस ने वहां छापेमारी की, हालांकि वह पुलिस के हाथ नहीं लगा। पुलिस ने यह जानकारी दी।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि फरीदाबाद क्राइम ब्रांच को मुखबिर से सूचना मिली थी कि दुबे यहां बड़खल चौक स्थित एक होटल में छिपा है। उन्होंने बताया कि इसी आधार पर फरीदाबाद की अपराधा शाखा के दल ने होटल में छापेमारी की।

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि मौके पर गोली भी चली है लेकिन पुलिस ने इससे इंकार किया है। पुलिस प्रवक्ता के अनुसार पुलिस टीम ने होटल के एक-एक कमरे की बारीकी से तलाशी ली, लेकिन विकास दुबे वहां नहीं मिला। बताया जा रहा है कि दुबे गेस्ट हाउस में छापेमारी से पहले चुपचाप पैदल ही वहां से निकल गया।

पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज से ही इसकी सच्चाई सामने आएगी कि दुबे वास्तव में वहां था भी या नहीं। हालांकि, सीसीटीवी फुटेज में गमछा लपेटे एक व्यक्ति दिख रहा है जो दुबे जैसा ही लग रहा है। उसने नीले रंग का मास्क पहना हुआ है और इसी रंग की जींस और गुलाबी टीशर्ट पहने है।

चर्चा है कि दुबे फरीदाबाद में दो-तीन दिन रुका था और वह ओयो होटल के अलावा नहर पार की न्यू इंदिरा कॉलोनी में अपने कुछ दूर के रिश्तेदारों के यहां भी रुका था। पुलिस के अपुष्ट सूत्रों ने बताया है कि इस मामले में अपराधा शाखा की टीम ने दो-तीन लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।