स्व. वाजपेयीजी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद
स्व. वाजपेयीजी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

नई दिल्ली/भाषा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की दूसरी पुण्यतिथि पर रविवार को उन्हें श्रद्धांजलि दी। उनके साथ ही कई केंद्रीय मंत्रियों और अन्य नेताओं ने राष्ट्रीय राजधानी में वाजपेयी के स्मारक ‘सदैव अटल’ पर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

मोदी ने कहा कि भारत उनकी असाधारण सेवा और देश की प्रगति के लिए उनके प्रयासों को सदा याद रखेगा। मोदी ने ट्वीट किया, ‘प्रिय अटलजी को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि। देश उनकी असाधारण सेवा और देश की प्रगति में उनके प्रयासों को हमेशा याद रखेगा।’

वाजपेयी पहले ऐसे प्रधानमंत्री थे, जो भाजपा नेता थे। उनका 16 अगस्त, 2018 को निधन हो गया था। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि वाजपेयी के नेतृत्व में राष्ट्र ने पहली बार ‘सुशासन’ को देशभर में क्रियान्वित होते देखा।

उन्होंने कहा, ‘अटलजी के प्रधानमंत्री कार्यकाल में देश ने पहली बार सुशासन को चरितार्थ होते देखा। जहां एक ओर उन्होंने सर्व शिक्षा अभियान, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना और राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना जैसे विकासशील कार्य किए, वहीं दूसरी ओर पोखरण परीक्षण एवं करगिल विजय से मजबूत भारत की नींव रखी।’

वाजपेयीजी को श्रद्धा-सुमन चढ़ाकर नमन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
वाजपेयीजी को श्रद्धा-सुमन चढ़ाकर नमन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

शाह ने कहा, ‘आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार अटल जी के विचारों को केंद्र में रखकर सुशासन एवं गरीब कल्याण के मार्ग पर अग्रसर है और भारत को विश्व में एक महाशक्ति बनाने के लिए कटिबद्ध है। श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयीजी की पुण्यतिथि पर उन्हें कोटि-कोटि वंदन।’

उन्होंने ट्वीट किया, ‘भारत रत्न श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी देशभक्ति एवं भारतीय संस्कृति की प्रखर आवाज थे। वे एक राष्ट्र समर्पित राजनेता होने के साथ-साथ कुशल संगठक भी थे, जिन्होंने भाजपा की नींव रख उसके विस्तार में एक अहम भूमिका निभाई और करोड़ों कार्यकर्ताओं को देश सेवा के लिए प्रेरित किया।’

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत के विकास एवं लोगों के लिए वाजपेयी का अतुलनीय योगदान हमेशा याद किया जाएगा और देश के लिए उनकी दूरदृष्टि आगामी पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी।