चंडीगढ़/भाषा। चंडीगढ़ स्थित पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पीजीआईएमईआर) में चिकित्सकों ने सहायक उप निरीक्षक का वह कटा हाथ सर्जरी से सफलतापूर्वक जोड़ दिया जो पंजाब के पटियाला में निहंगों के एक समूह के हमले में कट गया था। यह जानकारी अधिकारियों ने दी।

अधिकारियों ने बताया कि 50 वर्षीय एएसआई का हाथ जोड़ने के लिए सर्जरी सात घंटे से अधिक समय तक चली। पटियाला जिले की एक सब्जी मंडी में कर्फ्यू पास दिखाने के लिए कहने पर निहंगों के समूह ने पुलिस दल पर हमला किया था।

इस हमले में सहायक उप-निरीक्षक हरजीत सिंह का हाथ तलवार से कट गया था, जबकि पंजाब पुलिस के तीन अन्य पुलिसकर्मी और एक मंडी अधिकारी घायल हो गया था। पंजाब पुलिस ने हमले के सिलसिले में एक महिला सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। यह हमला सन्नौर नगर में सुबह सवा छह बजे हुआ।

पीजीआईएमईआर ने कहा कि उनके निदेशक डॉ. जगत राम को पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता से सुबह पौने आठ बजे इस बारे में फोन आया था, जिसके बाद वहां के ट्रॉमा सेंटर में आपातकालीन टीम को अलर्ट कर दिया गया था।

पीजीआईएमईआर के अनुसार, प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रमुख प्रोफेसर रमेश शर्मा को सर्जरी का कार्य सौंपा गया था। पीजीआईएमईआर ने कहा, सर्जरी सुबह करीब 10 बजे शुरू हुई और इसमें करीब साढ़े सात घंटे का समय लगा।

पीजीआईएमईआर ने कहा कि यह तकनीकी रूप से बहुत जटिल और चुनौतीपूर्ण सर्जरी थी जिसे सफलतापूर्वक सम्पन्न किया गया।