सांकेतिक चित्र
सांकेतिक चित्र

लखनऊ/भाषा। उत्तर प्रदेश सरकार ने सोमवार को कहा कि देशव्यापी लॉकडाउन में किसानों को कोई असुविधा न हो, इसके लिए प्रदेश सरकार निरंतर ध्यान दे रही है और 15 अप्रैल से 5,500 खरीद केंद्रों के माध्यम से गेहूं खरीद का काम शुरू करेगी।

एक सरकारी बयान में कहा गया कि प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि गेहूं की कटाई तेजी से हो रही हैं। कटाई के बाद गेहूं की खरीद के लिए प्रदेश सरकार ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। किसानों को गेहूं खरीद के संबंध में बिल्कुल भी चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

प्रमुख सचिव, खाद्य एवं रसद तथा कृषि, कृषि विपणन एवं विदेश व्यापार, देवेश चतुर्वेदी ने विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा आगामी 15 अप्रैल से 5,500 खरीद केंद्रों के माध्यम से न्यूनतम समर्थन मूल्य 1,925 रुपए प्रति क्विंटल पर गेहूं की खरीद की जाएगी।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में गेहूं खरीद का लक्ष्य 55 लाख टन रखा गया है। क्रय केंद्रों पर अनावश्यक भीड़ न हो, इसके लिए ऑनलाइन टोकन की व्यवस्था की गई है। गेहूं बिक्री के लिए इच्छुक किसानों को केंद्र प्रभारी से संपर्क कर अपना कृषक पंजीकरण नंबर बताकर अनुरोध करना होगा। इस पर केंद्र प्रभारी द्वारा एक सप्ताह के अंदर टोकन जारी होने की सूचना संबंधित किसान के मोबाइल नंबर पर भेजी जाएगी।

चतुर्वेदी ने बताया कि किसानों की सुविधा के दृष्टिगत उन्हें अपना आधार कार्ड ले जाने पर पूर्व से पंजीकृत न होने की दशा में क्रय केंद्र प्रभारी द्वारा मौके पर ही उसके फोटो पहचान पत्र, बैंक पासबुक तथा खतौनी की प्रति के आधार पर उसका पंजीकरण किया जाएगा।