logo
पाकिस्तान में आतंकवादियों को ‘फ्री पास’ का आनंद मिलता है: भारत
संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन की सलाहकार काजल भट ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कहा
 
‘फ्री पास’ से तात्पर्य है कि आतंकवादियों को देश में आराम से घूमने-फिरने की स्वतंत्रता मिली है

संयुक्त राष्ट्र/भाषा। भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान की निंदा करते हुए कहा कि वहां आतंकवादियों को ‘फ्री पास’ का आनंद मिलता है और उनका समर्थन करने का देश का एक स्थापित इतिहास है, साथ ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित आतंकवादियों को सबसे बड़ी संख्या में पनाह देने का अपमानजनक रिकॉर्ड भी उसी के नाम है।

‘फ्री पास’ से तात्पर्य है कि आतंकवादियों को देश में आराम से घूमने-फिरने की स्वतंत्रता मिली है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन की सलाहकार काजल भट ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कहा, ‘मैं, आज पाकिस्तान के प्रतिनिधि द्वारा की गई कुछ तुच्छ टिप्पणियों का जवाब देने के लिए एक बार फिर मंच का इस्तेमाल करने को विवश हूं। ’

उन्होंने कहा, ‘ऐसा पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा दिए गए मंच का इस्तेमाल, मेरे देश के खिलाफ झूठा एवं दुर्भावनापूर्ण प्रचार करने और दुनिया का ध्यान अपने देश की दुखद स्थिति से हटाने की कोशिश करने के लिए किया है, जहां आतंकवादी ‘फ्री पास’ का आनंद लेते हैं, जबकि आम लोगों, खासकर अल्पसंख्यक समुदायों के लोगों के जीवन दूभर हैं।’

संयुक्त राष्ट्र में भारत के उप स्थायी प्रतिनिधि राजदूत आर रवींद्र इससे पहले ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा ‘निवारक कूटनीति के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा कायम करने’ के विषय पर आयोजित खुली चर्चा में देश का पक्ष रख चुके थे।

संयुक्त राष्ट्र में खुली चर्चा के दौरान पाकिस्तान के राजदूत मुनीर अकरम के जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाने के बाद भट ने एक बार फिर भारत की ओर से मंच को संबोधित किया।

भट ने कहा, ‘भारत, पाकिस्तान सहित सभी देशों के साथ सामान्य पड़ोसी वाला संबंध चाहता है और शिमला समझौते तथा लाहौर घोषणा के अनुसार बकाया मुद्दों, यदि कोई हो, तो उसे द्विपक्षीय तथा शांतिपूर्ण तरीके से निपटाया जाएगा। कोई भी सार्थक बातचीत केवल आतंकवाद, शत्रुता तथा हिंसा से मुक्त वातावरण में ही हो सकती है। ऐसा अनुकूल माहौल बनाने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है। तब तक भारत, सीमा-पार आतंकवाद के जवाब में निर्णायक एवं दृढ़ कदम उठाता रहेगा।’

जम्मू-कश्मीर से नाता रखने वाली भट ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देश इस बात से अवगत हैं कि पाकिस्तान के पास आतंकवादियों को पनाह देने, सहायता करने और सक्रिय रूप से समर्थन देने का ‘स्थापित इतिहास तथा नीति’ है।

उन्होंने कहा, ‘यह एक ऐसा देश है जिसे विश्व स्तर पर आतंकवादियों का खुले तौर पर समर्थन करने, उन्हें प्रशिक्षण देने, वित्तपोषण तथा हथियार मुहैया कराने वाले के रूप में पहचाना जाता है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित आतंकवादियों को सबसे बड़ी संख्या में पनाह देने का अपमानजनक रिकॉर्ड भी उसी के नाम है।’

भट ने कहा कि केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख, भारत का अभिन्न एवं अविभाज्य हिस्सा था.. है.. और हमेशा रहेगा। ‘इसमें वे इलाके भी शामिल हैं जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में हैं।’ भारत ने पाकिस्तान से अवैध रूप से कब्जा किए गए सभी इलाके तुरंत खाली करने को भी कहा।

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए