logo
बेंगलूरुः ‘पेसीएम’ मामले में पुलिस ने कांग्रेस नेता को हिरासत में लिया
घटना की जानकारी मिलने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार हाई ग्राउंड्स थाने पहुंचे, जहां पुलिसकर्मी नायडू को लेकर गए थे
 
बोम्मई ने इस मामले में कल जांच के आदेश दिए थे और इसे ‘साजिश’ तथा उनकी छवि खराब करने का प्रयास बताया था

बेंगलूरु/भाषा। बेंगलूरु पुलिस ने कांग्रेस के ‘पेसीएम’ अभियान के जरिए मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई पर निशाना साधने के सिलसिले में कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व सोशल मीडिया प्रकोष्ठ प्रमुख बी आर नायडू को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया।

घटना की जानकारी मिलने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार हाई ग्राउंड्स थाने पहुंचे, जहां पुलिसकर्मी नायडू को लेकर गए थे।

थाने के पास संवाददाताओं से बातचीत में शिवकुमार ने कार्रवाई को ‘ज्यादती’ करार दिया। पार्टी ने दावा किया कि पुलिस ने कल आधी रात के करीब नायडू को उनके घर से हिरासत में लिया।

शिवकुमार ने यह चेतावनी भी दी कि शुक्रवार को सार्वजनिक स्थानों पर ‘पेसीएम’ पोस्टर लगाने में पार्टी के 100 विधायक भाग लेंगे।

बेंगलूरु के कई हिस्सों में बुधवार को मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई की तस्वीर वाले ऐसे पोस्टर लगाए गए, जिन पर ‘पेसीएम’ लिखा हुआ था। शहर के मध्य क्षेत्र में दिखाई दिए ये पोस्टर ऑनलाइन भुगतान ऐप पेटीएम के विज्ञापनों से मिलते-जुलते थे।

कांग्रेस के अभियान के तहत लगाए गए पोस्टर में बने क्यूआर कोड के बीच में बोम्मई के चेहरे की तस्वीर लगाते हुए लिखा गया था- 40 फीसदी यहां लिया जाता है।

सूत्रों के अनुसार, इस क्यूआर कोड को स्कैन करने पर लोग कांग्रेस द्वारा रिश्वतखोरी की शिकायतों के लिए शुरू की गयी ‘40 प्रतिशत सरकार’ वेबसाइट पर पहुंच जाते हैं।

बोम्मई ने इस मामले में कल जांच के आदेश दिए थे और इसे ‘साजिश’ तथा उनकी छवि खराब करने का प्रयास बताया था।

<