प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

तिरुवनंतपुरम/भाषा। केरल में ‘जेल कैदियों द्वारा निर्मित’ हवाई चप्पल जल्द ही दुकानों या बाजार में उपलब्ध होगी, क्योंकि यहां के एक केंद्रीय कारागार ने अब रबर की चप्पलों का निर्माण शुरू कर दिया है।

जैविक खेती करने, पेट्रोल पंप चलाने और ब्यूटी पार्लर के व्यवसाय में सफलतापूर्वक प्रवेश करने के अलावा स्वादिष्ट व किफायती खाद्य पदार्थों सहित कई अलग-अलग तरह के उत्पादों को बनाने के बाद यहां के पूजापुरा सेंट्रल जेल के कैदी अब फुटवियर बना रहे हैं।

कैदियों को समाज की मुख्य धारा में लाने के लिए किए जा रहे कल्याणकारी उपायों के तहत केरल जेल और सुधार सेवा विभाग ने हाल ही में जेल परिसर में एक फुटवियर निर्माण इकाई की स्थापना की।

जेल प्रशासन ने चप्पल बनाने में लगे, पारंपरिक परिधान पहने कैदियों और उनके द्वारा बनाई गई रंगीन चप्पलों की तस्वीरें जारी कीं।

जेल और सुधार गृह के अधीक्षक निर्मलनंदन नायर ने कहा, ‘चप्पल की प्रत्येक जोड़ी 80 रुपए में बेची जाएगी और इसे ‘फ्रीडम वॉक’ ब्रांड के नाम से बेचा जाएगा।’ जेल और सुधार सेवाओं के महानिदेशक ऋषि राज सिंह ने शनिवार को कोविड-19 दिशा-निर्देशानुसार जेल परिसर में आयोजित एक समारोह में चप्पल की बिक्री के कार्य की शुरुआत की।

इस बीच, जेल द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि पूजापुरा केंद्रीय कारागार अब पूर्ण रूप से कोविड मुक्त क्षेत्र बन गया है।