बेंगलूरु में सिर्फ इतनी झीलों का पानी पीने लायक!

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोतः PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोतः PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। हाल में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, बेंगलूरु शहर की 210 झीलों में से 21 का पानी पीने लायक है। सीएसआईआर-नेशनल एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनईईआरआई) द्वारा किए गए इस अध्ययन से पता चलता है कि 21 झीलों में से, जो शहर की कुल झीलों का 10 प्रतिशत है । अकेले बीबीएमपी के येलहंका क्षेत्र में 11 झीलों के पानी की गुणवत्ता ठीक हैं।

पहले चरण की रिपोर्ट में एनईईआरआई ने न केवल झीलों की स्थिति का अध्ययन किया बल्कि उनके कायाकल्प के लिए कई उपाय भी सुझाए। एनईईआरआई की रिपोर्ट मंगलवार को मुख्य न्यायाधीश अभय श्रीनिवास ओका और न्यायमूर्ति सचिन शंकर मगदुम की खंडपीठ के समक्ष प्रस्तुत की गई।

गौरतलब है कि सीएसआईआर-एनईईआरआई को बीबीएमपी ने बेंगलूरु में झीलों का अध्ययन करने के लिए नियुक्त किया था। वहीं इस रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि 210 झीलों में से 36 झीलों की पानी की गुणवत्ता बहुत खराब है, जिसका मतलब है कि पानी किसी भी उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

वहीं 63 झीलों के पानी की गुणवत्ता खराब मिली है। हालांकि उनके पानी का उपयोग सिंचाई के लिए किया जा सकता है। इस अध्ययन को करने का मुख्य उद्देश्य झीलों के प्रदूषण के कारणों का पता लगाने के साथ ही उनकी सुरक्षा के लिए अल्पकालिक और दीर्घकालिक उपाय सुझाना था।