बांग्लादेश में मतुआ समुदाय से बोले मोदी- ‘हमारा रिश्ता जन-जन का, मन से मन का’

मतुआ समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।
मतुआ समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।

ढाका/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को बांग्लादेश के ओराकांडी में मतुआ समुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा रिश्ता जन-जन का, मन से मन का है। उन्होंने समुदाय के मंदिर में पूजा-अर्चना भी की।

उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि आज श्रीश्री हॉरिचॉन्द ठाकुरजी की कृपा से मुझे ओराकांडी ठाकुरबाड़ी की इस पुण्यभूमि को प्रणाम करने का सौभाग्य मिला है। मैं श्रीश्री हॉरिचॉन्द ठाकुरजी, श्रीश्री गुरुचॉन्द ठाकुरजी के चरणों में शीश झुकाकर नमन करता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसने सोचा था कि भारत का प्रधानमंत्री कभी ओराकांडी आएगा! मैं आज वैसा ही महसूस कर रहा हूं, जो भारत में रहने वाले ‘मॉतुवा शॉम्प्रोदाई’ के मेरे हजारों-लाखों भाई-बहन ओराकांडी आकर महसूस करते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं जब पश्चिम बंगाल में ठाकुरनगर गया था, तो वहां मेरे मॉतुवा भाइयों-बहनों ने मुझे परिवार के सदस्य की तरह प्यार दिया था। विशेष तौर पर ‘बॉरो-मां’ का अपनत्व, मां की तरह उनका आशीर्वाद, मेरे जीवन के अनमोल पल रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और बांग्लादेश दोनों ही देश अपने विकास से, अपनी प्रगति से पूरे विश्व की प्रगति देखना चाहते हैं। दोनों ही देश दुनिया में अस्थिरता, आतंक और अशांति की जगह स्थिरता, प्रेम और शांति चाहते हैं। यही मूल्य, यही शिक्षा श्रीश्री हॉरिचान्द देवजी ने हमें दी थी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि श्रीश्री हॉरिचॉन्द देवजी की शिक्षाओं को जन-जन तक पहुंचाने में, दलित-पीड़ित समाज को एक करने में बहुत बड़ी भूमिका उनके उत्तराधिकारी श्रीश्री गुरुचॉन्द ठाकुरजी की भी है। श्रीश्री गुरुचॉन्दजी ने हमें ‘भक्ति, क्रिया और ज्ञान’ का सूत्र दिया था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि गुलामी के उस दौर में भी श्रीश्री हॉरिचॉन्द ठाकुरजी ने समाज को यह बताया कि हमारी वास्तविक प्रगति का रास्ता क्या है। आज भारत हो या बांग्लादेश सामाजिक एकजुटता, समसरता के उन्हीं मंत्रों से विकास के नए आयाम छू रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के मेरे भाई-बहनों के लिए यह तीर्थ यात्रा और आसान बने, इसके लिए भारत सरकार की तरफ से प्रयास और बढ़ाए जाएंगे। ठाकुरनगर में मौतुवा संप्रदाय के गौरवशाली इतिहास को प्रतिबिंबित करते भव्य आयोजनों और विभिन्न कार्यों के लिए भी हम संकल्पबद्ध हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत और बांग्लादेश दोनों देश कोरोना का मजबूती से मुकाबला कर रहे हैं। मेड इन इंडिया वैक्सीन बांग्लादेश के नागरिकों तक भी पहुंचे, भारत इसे अपना कर्तव्य समझ के कर रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे विश्वास है श्रीश्री हॉरिचॉन्द देवजी के आशीर्वाद से, श्रीश्री गुरुचॉन्दजी की प्रेरणा से हम दोनों देश 21वीं सदी के इस महत्वपूर्ण कालखंड में अपने इन साझा लक्ष्यों को हासिल करेंगे। भारत और बांग्लादेश प्रगति और प्रेम के पथ पर दुनिया का पथ प्रदर्शन करते रहेंगे।