अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

वॉशिंगटन/दक्षिण भारत। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव को लेकर घमासान जारी है और हर किसी की जुबान पर एक ही सवाल है कि व्हाइट हाउस के दरवाजे किसके लिए खुलेंगे। वहीं, एक 93 वर्षीया महिला की मौत के बाद उसकी वसीयत और शोक संदेश भी सुर्खियों में हैं।

यह महिला राष्ट्रपति ट्रंप की घोर विरोधी थी और उसके शोक संदेश में भी यही अपील कर दी गई कि ट्रंप को वोट न दें। एक ओर जहां यह अपील सोशल मीडिया पर चर्चा में है, वहीं ट्रंप समर्थक इसकी आलोचना कर रहे हैं।

स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, मिनेपोलिस इलाके की निवासी रही इस महिला का सेंट पॉल के एक अस्पताल में निधन हो गया था। इसके बाद परिजन ने यहां के अखबारों में शोक संदेश छपवाया।

जब लोगों के पास ये अखबार पहुंचे तो वे इसे पढ़कर चौंके। संदेश में उक्त महिला की कुछ ‘आखिरी इच्छाओं’ का जिक्र भी किया गया था। इन्हीं में से एक था ट्रंप को वोट न देने की अपील। परिजन के अनुसार, महिला ने उन्हें निर्देश दिया था कि वे उस पर फूल न बरसाएं, क्योंकि इससे बेहतर है कि ट्रंप को वोट न दें।

महिला की एक पोती की मानें तो वे बहुत गुस्सैल थीं और यही सब उनकी वसीयत में भी झलका। यह महिला अपने पीछे पति, पूर्व पति, बहन, बेटा, तीन बेटियां, दो सौतेली बेटियां, 17 पोते-पोती और 24 पड़पोते-पोतियां छोड़ गई हैं। परिवार में पड़पोते की भी एक संतान है।