विज्ञापन के वीडियो से लिया गया एक चित्र
विज्ञापन के वीडियो से लिया गया एक चित्र

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। मशहूर ज्वेलरी ब्रांड तनिष्क अपने एक विज्ञापन की वजह से विवादों में घिर गया, हालांकि बाद में कंपनी ने उसे हटा दिया। इससे पहले, विज्ञापन की वजह से सोशल मीडिया पर ‘बॉयकाट तनिष्क’ ट्रेंड करने लगा था। यूजर्स ने आरोप लगाया कि टाटा समूह का यह ब्रांड अपने विज्ञापन के जरिए ‘लव जिहाद’ को बढ़ावा दे रहा है।

बता दें कि तनिष्क ने ऐसे समय में उक्त विज्ञापन जारी किया था जब कई त्योहार आने वाले हैं और लोग धार्मिक मान्यताओं के आधार पर आभूषण खरीदते हैं। विज्ञापन को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूटने के बाद काफी बवाल मचा और कई यूजर्स ने यह अपील कर डाली कि इस त्योहारी सीजन में तनिष्क के उत्पादों का बहिष्कार करें।

दरअसल तनिष्क के इस विज्ञापन में एक ऐसी हिंदू महिला को दर्शाया गया था जिसकी मुस्लिम घर में शादी हुई है। वह गर्भवती है और मुस्लिम परिवार उसके लिए गोद भराई की रस्म का आयोजन करता है। विज्ञापन के अनुसार, परिवार उस महिला के लिए सभी रस्में हिंदू धर्म के अनुसार निभाता है। उसके बाद आभूषणों का प्रचार किया जाता है।

लोगों की शिकायत इस बात को लेकर थी कि फिल्मों और विज्ञापनों में हर बार ‘हिंदू भावनाओं’ का अनादर क्यों किया जाता है। एक ट्विटर यूजर ने तो तनिष्क को यह चुनौती दे दी कि क्या वह हिंदू परिवार में मुस्लिम बहू दिखाने का साहस कर सकता है। वहीं, बड़ी तादाद में यूजर्स ने टाटा समूह तक अपने भावनाएं पहुंचाने और इसके ट्विटर अकाउंट को अनफॉलो करने की अपील भी की। विरोध बढ़ने के बाद कंपनी ने इस विज्ञापन को वापस ले लिया।