logo
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे उप्र की दृढ़ इच्छाशक्ति, संकल्पों की सिद्धि का प्रमाण: मोदी
'उप्र में सात-आठ वर्ष पहले जो स्थिति थी, उसे देखकर मुझे हैरानी होती थी कि ...'
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि यह एक्सप्रेस-वे उप्र में आधुनिक होती सुविधाओं का प्रतिबिंब है

सुल्तानपुर/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया। तीन सौ इकतालीस किमी लंबा और लखनऊ को गाजीपुर से जोड़ने वाला छह लेन युक्त एक्सप्रेस-वे करीब 22,500 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से तैयार किया गया है। 

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री इस एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन करने के लिए वायुसेना के सी-130 हरक्यूलिस विमान से पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे हवाई पट्टी पर उतरे थे। यहां राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और अन्य लोगों ने उनका स्वागत किया।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया में जिसे भी उप्र के सामर्थ्य, उप्र के लोगों के सामर्थ्य पर जरा भी संदेह हो, वो आज यहां सुल्तानपुर में आकर देख सकता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि तीन-चार वर्ष पहले जहां सिर्फ जमीन थी, अब वहां से होकर इतना आधुनिक एक्सप्रेस-वे गुजर रहा है। जब तीन वर्ष पहले मैंने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया था तब यह नहीं सोचा था कि एक दिन उसी एक्सप्रेस-वे पर विमान से खुद उतरूंगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह एक्सप्रेस-वे उप्र में आधुनिक होती सुविधाओं का प्रतिबिंब है। यह एक्सप्रेस-वे उप्र की दृढ़ इच्छा शक्ति का एक्सप्रेस-वे है। यह उप्र में संकल्पों की सिद्धि का जीता-जागता प्रमाण है। यह उप्र की शान और उप्र का कमाल है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उप्र में सात-आठ वर्ष पहले जो स्थिति थी, उसे देखकर मुझे हैरानी होती थी कि आखिर इसे कुछ लोग किस बात की सजा दे रहे हैं! साल 2014 में जब उप्र ने, देश ने मुझे महान भारत भूमि की सेवा का अवसर दिया, तो मैंने उप्र के विकास के लिए बहुत सारे विकास के कार्य शुरू करवाए।

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए